Breaking
Tue. Apr 23rd, 2024

[ad_1]

नया साल शुरू होने से ठीक पहले रिजर्व बैंक ने जन्मोत्सव को हैप्पी न्यू ईयर का स्वागत दिया है। रिज़र्व बैंक ने एक समुद्री परिवर्तन में जांचकर्ताओं को सरकारी प्रतिभूतियों में ऋण लेने और पट्टे की स्वीकृति दे दी है। इस प्रकार की अलैंगिकता का एक नया व शानदार विकल्प मिला हुआ है। साथ ही निवेशक अब सरकारी कंपनियों में कर्ज के लेन-देन से भी कमाई कर लेंगे। सरकारी दस्तावेज़ों में कर्ज़ लेना और देना की मंजूरी दे दी गई है। इसमें सिर्फ ट्रेजरी बिल बाहर रखा गया है. इस बारे में सेंट्रल बैंक ने रविवार को गाइडलाइंस जारी किया। गाइडलाइंस के, ट्रेजरी बिल को ठीक करने के लिए केंद्र सरकार के जारी किए गए जी-सेक द्वारा अब लेंडिंग और बोरोइंग के लिए पात्र होंगे। यह काम रजिस्ट्री बिल और स्टेट कंसल्टेंट के बॉन्ड जीएसएल के तहत किया जाएगा। ट्रांसजेक्शन में कोलतार रखा जा सकता है। रिज़र्व बैंक ने गाइडलाइंस में मर्चेंडाइज मैच्योरिटी पर भी बात की है। रिजर्व बैंक का कहना है कि जीएसएल ट्रांजेक्शन का मिनिमम टेनर एक दिन का होगा। मैक्सिमम टेनर शॉर्ट सेल को कवर करने के लिए जरूरी है मुख्य अवधि के हिसाब से बने रहना। माना जा रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि नागालैंड में लेंडिंग और बोरोइंग का अच्छे तरह से काम करने वाला बाजार में उपलब्ध होने वाला है। इससे जापान की नागालैण्डिटी भी बेहतर होगी। इस तरह से सरकारी प्रतिभूतियों की बेहतर ग्रेड डिस्कवरी में भी मदद मिलेगी। ड्राफ्ट जारी किया गया था. मसउदे में विभिन्न स्टॉक एक्सचेंजों से जो स्टोइन्ट्स रिज़र्व बैंक ने अपने खाते से रिज़र्व बैंक तैयार किया है। इस कदम से स्पेशल रैपो के मौजूदा बाजार में सुधार की उम्मीद की जा रही है। इस कदम के बाद अब प्रतिभागियों की व्यापक भागीदारी भी सुनिश्चित होगी, क्योंकि उन्हें सहभागिता के लिए एक नया विकल्प मिल गया है।

ये भी पढ़ें: जोमैटो को मिला हैशटैग से कारण बताया नोटिस, 400 करोड़ रुपये से भी ज्यादा का है मामला

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *