Breaking
Sat. Feb 24th, 2024


ईपीएफओ डेटा: स्टाफ फ्यूचर फंड ऑर्गनाइजेशन (ईपीएफओ) से नवंबर, 2023 तक करीब 13.95 लाख लोग जुड़े हैं। इनमें से 7.36 लाख लोग युवा हैं। ईपीएफओ द्वारा शनिवार को जारी आंकड़ों से पता चला है कि ईपीएफओ के पिछले वर्ष के दौरान चालू वित्त वर्ष के दौरान समान अवधि की तुलना में अधिक जानकारी प्राप्त हुई है। ईपीएफओ आंकड़ों के, नवंबर, 2023 के दौरान लगभग 7.36 लाख नए सदस्यों को नामांकित किया गया है। नए शामिल हुए ग्रुप में 18-25 साल के युवाओं का आंकड़ा सबसे ज्यादा 57.30 फीसदी है। इससे पता चलता है कि युवाओं को देश में अच्छी संख्या में बेरोजगारी मिल रही है। देश के संयुक्त क्षेत्र में युवाओं की मांग बनी हुई है। इनसे ज्यादातर पहली बार नौकरी कर रहे हैं।

10.67 लाख सदस्य ई-पीएफओ में फिर से बदलाव

पेरोल डेटा के मुताबिक, नवंबर में करीब 10.67 लाख सदस्य ईपीएफओ से बाहर हो गए। मगर, अन्यत्र थोक जौइन कर लें। इसके निर्माण में ईआईएफओ शामिल हो गया। इन ग्रुपों ने ई-फ़ॉफ़ के समूह में आने वाली कंपनियों में रोज़गार व्यवसाय की शुरुआत की। इन सभी ने सिक्कों के स्थान पर अपने सिक्कों को अंकित करने का विकल्प चुना। इससे उनकी सामाजिक सुरक्षा बढ़ी।

1.94 लाख नई महिला सदस्य

पेरोल डेटा के जेंडर विश्लेषण से पता चलता है कि नवंबर के दौरान कुल 7.36 लाख नए सदस्यों में से लगभग 1.94 लाख नई महिला सदस्य शामिल हैं। यह पहली बार ईपीएफओ में शामिल हुए हैं। इसके अलावा महिला सदस्यों की कुल संख्या करीब 2.80 लाख रही. ग्राहक वृद्धि से महिला सदस्य का पात्र 20.05 प्रतिशत रहा। यह आंकड़ा सितंबर, 2023 के बाद से सबसे अधिक है। इससे पता चलता है कि संयुक्त क्षेत्र के कार्यशालाओं में महिला कर्मचारियों की भागीदारी बढ़ रही है।

महाराष्ट्र से सबसे ज्यादा सदस्य जुड़े

डेटा के राज्यवार विश्लेषण से पता चला है कि समूह के सबसे बड़े बहुमत 5 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों, उद्यमियों, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक, हरियाणा और दिल्ली में दर्ज किए गए हैं। भारत में कुल सदस्य वृद्धि में लगभग 58.81 प्रतिशत का योगदान है। इससे पहले नवंबर के दौरान कुल 8.20 लाख सदस्य जुड़े। सभी राज्यों में से महाराष्ट्र में इस दौरान सबसे ज्यादा 21.60 प्रतिशत नए सदस्य ईपीएफओ से जुड़े।

मैनपॉवर रोबोट, रोबोट जैसे सेक्टर में वृद्धि कर रहे सदस्य

ईएफ़ओ के, कृषि फार्म, फ़ुटबॉल बागों, चीनी, रबर बाग़ों, टाइल्स आदि स्थानों पर काम करने वाले की संख्या भी तेजी से बढ़ती है। नये ग्रुप में लगभग 41.94 प्रतिशत प्लांट सेक्टर में काम कर रहे हैं। इनमें मैनपावर सेक्टर, वोल्टेज, माइक्रोस्कोप जैसे शामिल हैं।

यूनिवर्सल अकाउंट नंबर से की जाती है गणना

ईपीएफओ का डेटा हर महीने अपडेट किया जाता है। यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) के माध्यम से इसकी गणना कर ली गई है। पहली बार ईपीएफओ में शामिल होने वाले समूह की गिनती, ईपीएफओ के जारी होने से बाहर जाने वाले स्थायी सदस्य और फिर से शामिल होने वाले समूह के सदस्य हर महीने होते हैं।

ये भी पढ़ें

आईसीआईसीआई बैंक: आईसीआईसीआई बैंक को 10272 करोड़ रुपये का फायदा, एनपीए में भी आई गिरावट

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *