Breaking
Mon. May 20th, 2024

[ad_1]

भारत चावल की संभावना: तीन महीने बाद देश में चुनाव होने वाला है. इन चुनावों के ठीक पहले चावल की नोक में तेज उछाल ने सरकार को परेशान कर रखा है। केंद्रीय खाद्य उपभोक्ता मामलो के मंत्री पीयूष गोयल चावल उद्योग से जुड़े उद्यमियों के साथ 15 जनवरी 2024 को अहम बैठक करने जा रहे हैं। बैठक में सरकारी चावल कंपनी के चावल के दाम की सूची जारी की जा सकती है।

चावल की संप्रदाय पर सरकार कसेगी निकलेल

इससे पहले भी डिपार्टमेंट ऑफ फूड एंड पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन के सचिव संजीव चोपड़ा ने 18 दिसंबर, 2023 को राइस की सलाह लेने वाली कंपनी के साथ बैठक की थी। इस बैठक में सरकार ने चावल उद्योग से जुड़े एसोसिएशंस को चावल के दाम के बारे में निर्देश दिए थे। विभाग ने मालदीव में चावल मिलों को उद्घोषणा खोरी से बचने के निर्देश दिए थे। इसके बावजूद चावल की विशिष्टता में नामारी नहीं आ रही है। जिसके बाद अब पीयूष गोयल रेस्तरां से जुड़े लोगों की एक साथ बैठक हो रही है।

भारत चावल चावल की तैयारी

सरकार ने आम लोगों को भारी चावल से राहत दिलाने के लिए भारत ब्रांड के नाम से चावल भी बेचने की तैयारी कर रही है। सरकार 29 रुपये प्रति किलो भारत चावल बेच सकती है। सरकार पहले ही राइस बिजनेस करने वाली इंडस्ट्रीज़ को ओएमएस के तहत 29 रुपये प्रति किलों में राइस बेच रही है। इसी कीमत पर सामाग्री बाजार में भी भारत चावल ब्रांड के नाम से चावल की दुकान की सरकार की तैयारी है।

सबसे बड़ा बन गया भारत ब्रांड!

वास्तविक खाद्य एसोसिएशन में तेज उछाल के बाद सरकार भारत ब्रांड के नाम से पहले ही दाल और आटा बेच रही है। भारतीय ब्रांड के नाम से 60 रुपये प्रति किल्क में चना दाल स्ट्रेंथ मार्केट में खरीदा जा रहा है। 27.50 रुपये प्रति किलो में आटा बेच रही है। और अब भारत में चावल की दुकान की तैयारी है। हाल ही में गृह एवं संरचना मंत्री अमित शाह ने किसानों के लिए अरहर दाल के लिए पोर्टल लॉन्च करने वाले कार्यक्रम में कहा था कि स्ट्रैटिमिर मार्केट में ग्राहक भी ब्रांड के नाम से खाद्य सामिग्री सहित जा रहे हैं जिसमें भारत ब्रांड का सबसे बड़ा ब्रांड बन चुका है। .

एक साल में 15 फीसदी महंगा हुआ चावल

चावल की डायनासोर में आई उछाल पर नजर तो सरकारी आंकड़ों के मुताबिक चावल का औसत बाजार में चावल का औसत 7 जनवरी 2024 को 43.73 रुपये पर जा रहा है जो ठीक एक साल पहले 7 जनवरी 2023 को 38.09 रुपये प्रति इंच था। यानी एक साल में चावल का औसत मूल्‍य में 14.80 फीसदी का उछाल आ गया है।

ये भी पढ़ें

म्यूचुअल फंड: दिसंबर 2023 में फंड फंड का एयूएम पहली बार 50 लाख करोड़ रुपये पार, एसआईपी निवेश भी 17,610 करोड़ के रिकॉर्ड हाई पर

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *