Breaking
Fri. May 24th, 2024

[ad_1]

भारत में निवेश: साल 2024 के पहले ही सप्ताह में देश में विदेशी निवेश आने का सूत्रधार है। साल 2023 से ही भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर विदेशी निवेशकों में उत्साह बना हुआ है। अब येशी मोमेंटो 2024 भी नजर आ रही है. नए साल में भी विदेशी पोर्टफोलियो शेयरधारकों (एफपीआई) का भारतीय शेयर उद्यम में खरीदारी का स्टॉक जारी हुआ है। तेजी से तेजी से बढ़ती इंडस्ट्री को लेकर उम्मीद के मुताबिक एफ क्रूज़ ने जनवरी के पहले हफ्ते में शेयर बाजार में करीब 4,800 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

लोन एवम बॉन्ड बाजार में भी 4,000 करोड़ रुपये

कंपनी के आंकड़ों के मुताबिक, इस अवधि में एफ निवेशकों ने लोन एंड बॉन्ड बाजार में भी 4,000 करोड़ रुपये के शेयर हैं. जियोजीत आर्किटेक्ट के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजय कुमार ने कहा कि 2024 में अमेरिका में ब्याज हिस्सेदारी में लंबे समय तक गिरावट की उम्मीद है। इसकी वजह से एफ खरीदारी अपनी दुकान और अधिक बढ़ जाएगी। देश में जल्द ही आम चुनाव होने जा रहे हैं। इन चुनावों से पहले कुछ महीनों में एफ निवेश का निवेश बढ़ने की पूरी उम्मीद है।

दिसंबर में एफ स्टॉक में 66,134 करोड़ रुपये बेचे गए थे

इसके अलावा 2024 में लोन मार्केट में भी एफ निवेशकों की संख्या अच्छी रहने की उम्मीद है। आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने इस महीने (5 जनवरी तक) भारतीय स्टॉक में 4,773 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया है। दिसंबर में एफ पोर्टफोलियो ने स्टॉक में 66,134 करोड़ रुपये और नवंबर में 9,000 करोड़ रुपये का निवेश किया था।

घरेलू उपभोक्ता के निवेश से बना है उत्साह

मॉर्निंगस्टार इन्वेस्टमेंट रिसर्च इंडिया के एसोसिएटेड डायरेक्टर -प्रबंधक रिसर्च एसोसिएट्स ने कहा कि एफ इन्वेस्टर्स में यह बढ़त ऐसे समय में हो रही है, जब इनवेस्टर्स पिछले सप्ताह रिजर्व बैंक की बैठक का इंतजार कर रहे थे। फिदेल फोलियो के स्मॉलकेस के प्रबंधक और संस्थापक किसलय उपाध्याय ने कहा कि भारत के घरेलू उद्यमों का निरंतर प्रवाह, चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के अच्छे सिद्धांतों के आंकड़े, कंपनियों के मजबूत तिमाही नतीजे और बैंकों की अच्छी सेहत विदेशी कंपनियों को भारतीय बाजार की ओर आकर्षित किया गया कर रही है.

2023 में 2.4 लाख करोड़ रुपए का एफ निवेश आया

साल 2023 एफ.एल.ओ. ने भारतीय उद्यम में लगभग 2.4 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया। इसमें से 1. 71 लाख करोड़ रुपये का निवेश निवेशकों और 68,663 करोड़ रुपये के लोन (डेट) या बॉन्ड मार्केट में किया गया। साल 2022 में यह पात्र महज 1.21 लाख करोड़ रुपये रहा। यह पिछले 3 साल का सबसे खराब किरदार था।

ये भी पढ़ें

नारायण मूर्ति: नारायण मूर्ति को गुसल रथ ने स्टोर रूम में एक बॉक्स पर सुलाया, कमरे में सामान तक नहीं था

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *