Breaking
Wed. Jun 19th, 2024

[ad_1]

2023 में व्हाइट कॉलर नौकरियों की भर्ती: साल 2023 में व्हाइट स्टॉक जॉब पाना मुश्किल हो गया है। टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के अनुसार, ऑनलाइन जॉब प्लेटफॉर्म Naukri.com ने देश में व्हाइट जॉब्स के हायरिंग के डेटा तकनीशियन हैं। ऐसा भारत में कहा गया है साल 2023 व्हाइट स्टॉकर जॉब्स की हायरिंग में 6 फीसदी की कमी आंकी गई है और आईटी, स्ट्रेंथ, बीपीओ, एजुकेशन, एफएमसीजी, हायरिंग जैसे सेक्टर्स में ग्रोथ रेट हैं।

वैश्विक आर्थिक संकट, भू-सांस्कृतिक विश्वसनीयता के कारण श्वेत गुटों की संख्या में गिरावट आई है। हालांकि इन वैश्विक शेयरों में अभी भी आर्किटेक्चर, तेल और गैस, रियल एस्टेट, पावर, डीलर आदि के डायनामिक्स के आंकड़े जारी किए गए हैं और इनमें प्रभावशाली हायरिंग के आंकड़े दिख रहे हैं। इन सभी सेक्टर में 2023 में डबल डिजिट में नई भर्तियां दी गईं।

2024 में कैसा रहेगा हाल?

टाइम्स से व्हाइट स्टॉक जॉब्स के बारे में बात करते हुए बैंक ऑफ क्रेडिट के प्रमुख अर्थशास्त्री मदन सबनवीस ने कहा कि अगले साल व्हाइट स्टॉक जॉब्स की संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है, लेकिन व्हाइट स्टॉक्स जॉब्स पूरी तरह से नए भारतीय स्टॉक के साथ हैं। इसके साथ ही 2023 में कम भर्ती की वजह से निवेशकों की कमी, बिजनेस इन्वेस्टमेंट और अर्थव्यवस्था के बेहतर आंकड़े देश में व्हाइट स्टॉक जॉब्स की संख्या में बढ़ोतरी का कारण बने। बीएफएसआई और एफएमसीजी कंपनियों में हायरिंग की प्रक्रिया में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी होगी।

आईटी का सेक्टर कैसा रहेगा हाल?

Naukri.com के आंकड़ों के मुताबिक 2023 आईटी सेक्टर के लिए बहुत अच्छा साबित नहीं हुआ है क्योंकि इस साल भर्तियों में 29 प्रतिशत की बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। वहीं वर्ष 2022 में आईटी क्षेत्र में हायरिंग में 7 प्रतिशत का विखंडन दर्ज किया गया था। इस डेटा में पायलटों, गिग हायरिंग जैसी भर्तियों को शामिल नहीं किया गया है।

इन आंकड़ों में 2024 में सबसे ज्यादा प्रतिशत की उम्मीद-

Naukri.com के आंकड़ों के अनुसार नए साल में जहां आईटी सेक्टर में हायरिंग में गिरावट का आकलन किया जा सकता है, वहीं एवेन्यूजेशन, टर्की, लॉजिस्टिक्स, हॉस्पिटैलिटी के क्षेत्र में असिस्टेंट की संख्या में कमी दर्ज की जा सकती है। एनसीआर/एनसीआर, चेन्नई, बैंगलोर और कोलकाता में नई भारतीयों की संख्या में गिरावट आई है, जबकि मछलीघर, वडोदरा और जयपुर में भारतीयों की संख्या दिल्ली में विभाजित है।

ये भी पढ़ें-

आजाद इंजीनियरिंग आईपीओ: सचिन तेंदुलकर के निवेश वाली कंपनी के आई शेयर पर टूट पड़े निवेशक, 83 गुना तक हुआ सब्सक्राइब, जानें जीएमपी का हाल

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *