Breaking
Mon. May 20th, 2024

[ad_1]

चीनी की कीमत में बढ़ोतरी: देश में चीनी जिले में उथल-पुथल और कारखानों के उत्पादन में गिरावट के बाद सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। केंद्र सरकार ने फार्महाउस के जून से एथेनॉल बनाने पर रोक लगाने का निर्णय लिया है। इस जजमेंट को लेकर नोटिफिकेशन भी जारी किया गया है. इस जजमेंट के बाद ये माना जा रहा है कि घरेलू बाजार में चीनी की आबादी पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी।

चीन के जून से एथेनॉल बनाने पर रोक

उपभोक्ता मामले एवं खाद्य आपूर्ति मंत्रालय ने यह आदेश जारी करते हुए कहा कि खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग अधिनियम 1955 के तहत आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के तहत देशों में चीनी के उत्पादन, बिक्री और चीनी के उत्पादों पर नजर रखी जाती है, जिससे उन देशों में चीनी के बाजारों में स्थिर कीमत पर ध्यान दिया जाता है। सुनिश्चित किया जा सके. आपके अधिकार के तहत मंत्रालय ने चीनी मिलों और डिस्टिलरीज़ को यह आदेश दिया है कि वे 2023-24 के दौरान कार्बोहाइड्रेट के खाद्य पदार्थ या शुगर सिरप का उपयोग एथेनॉल बनाने के लिए न करें। यह आदेश औपचारिक रूप से लागू हो चुका है। लेकिन तेल कंपनी की ओर से बी-हेवी मोलासेज़ से एथेनॉल की ग्रेजुएट जारी रहने के लिए मिले। मंत्रालय ने इस निर्णय की जानकारी भी दी है।

चीनी की सूची में बड़ी गिरावट

जैसे ही ये खबरें आईं कि भारत सरकार ने चीनी से एथेनॉल बनाने पर रोक लगा दी है, उसके बाद अंतरराष्ट्रीय बाजार में न्यूयॉर्क के शेयर में चीनी के भावी अनुपात में करीब 8 फीसदी की गिरावट आई है। वहीं ये भी माना जा रहा है कि इस जजमेंट का असर घरेलू बाजार में भी देखा जा सकता है। चीनी की विशिष्टता में कमी हो सकती है।

शुगर स्टॉक्स धड़ाम

सरकार के इस निर्णय के अनुसार चीनी उत्पाद बनाने वाली कंपनी के शेयरों में बड़ी गिरावट देखने को मिली है। चीनीराम चीनी 6.60 प्रतिशत, डालमिया भारत 6.08 प्रतिशत, बजाज हिंदुस्तान 5.41 प्रतिशत, डीसीएम श्रीराम 5.80 प्रतिशत की बल गिरावट के साथ बंद हुआ है।

ये भी पढ़ें

बजट 2024: वित्त मंत्री ने बजट में कही बड़ी घोषणाएं, बजट में नहीं होगी बड़ी घोषणा, करना होगा नई सरकार के गठन का इंतजार

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *