Breaking
Fri. Feb 23rd, 2024


2024 में आवास की मांग: 2023 के समान नए साल 2024 में भी देश में रेसिडेंशियल डिजायन में तेजी से बनी रहेगी। पिछले कुछ वर्षों में, 2024 में भी 45 लाख रुपये से लेकर 1 करोड़ रुपये तक के आंकड़े में सबसे तेजी से देखने को मिल सकता है। साथ ही 2 – 4 करोड़ रुपये और उनमें से अधिकतर कीमत वाले प्रीमियम और लक्जरी लक्जरी घर की मांग में भी तेजी से बनी रहेगी।

नए व्यवसाय में तलाशेंगे संभावना

आरसीबी (सीबीआरई) ने 2024 में अपनी एक रिपोर्ट में रेसिडेंशियल सेक्टर के आउटलुक को लेकर कहा था कि देश के प्रतिष्ठित रेजिडेंसियल सेक्टर नए शहरों में सोसायटी की तलाश करेंगे, जिससे वे अपने पोर्टफोलियो का विस्तार कर सकें और ब्रांड वैल्यू का लाभ ले सकें। अरबी के अनुसार 2023 में घर ख़ादिदने को लेकर जैसी भावना देखने को मिली थी 2024 में भी वो जारी रहेगी। रिपोर्ट के मुताबिक नए साल में मिड सैगमेंट अफ़ोर्ड कैटगरी के साथ प्रीमियम लक्ज़री डिमांड में भी तेजी से बरकार रहेगी।

रुचि नहीं बढ़ने से भावना में सुधार

आर्कबिशप इंडिया, दक्षिण-पूर्व एशिया, मध्य पूर्व और अफ्रीका के साठे सीईओ अंसमान रिलायंस के शेयरहोल्डर होल्डिंग्स ग्रोथ पर ब्रेक के लिए होम बायर्स के लिए सेंटिमेंट में सुधार देखने को मिलेगा और रियल एस्टेट सेक्टर को बढ़ावा देने में रुचि रहेगी। जाएगा. उन्होंने कहा कि शतरंज के नीचे राइट राइटर घाटने का दौर भी शुरू हो सकता है। इससे पहले आरबीआई ने शुक्रवार 8 दिसंबर को जारी ब्याज शेयरों में कोई बदलाव नहीं किया है।

हज़ारों कर्ज़ का डिज़ायन पर असरदार नहीं

आर्सीबी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि होम लोन पर ब्याज में उछाल के बावजूद डेक पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। जनवरी से सितंबर 2023 के दौरान दर्शन वर्ष 5 प्रतिशत अधिक 2.30 लाख लाख यूनिट्स की बिक्री मिली है। इस अवधि में 2.20 लाख नई लैपटॉप इकाइयाँ लॉन्च की गईं। 2023 में बनी मिड क्वालेंशियल रेंज़ेंडिशियल डिजाईन का स्ट्रांग कॉलम 2023 में बनी है।

ये भी पढ़ें-

RBI मौद्रिक नीति: नहीं मिली सरकारी लोन से राहत, रेपो रेट 6.5 फीसदी पर; निफ्टी 21000 के पार

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *