Breaking
Fri. Feb 23rd, 2024


अयोध्या राम मंदिर: अयोध्या में भगवान श्रीराम के मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के समय अब ​​केवल हफ्ता रह गया है। सनातन में मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर बेहद उत्साह देखा जा रहा है। ऐसे में बिजनेस से जुड़े लोगों का अनुमान है कि देश में इस उत्सव के दौरान भारी भरकम व्यापार होने की उम्मीद है। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा का पूर्वावलोकन दिखाते हुए कहा कि मंदिर उद्योग से उपजी व्यापार का आंकड़ा एक लाख करोड़ रुपये के पार जा सकता है। पहले कैट को 50,000 करोड़ रुपए के बिजनेस का फायदा मिला था।

कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा कि पहले 50 हजार करोड़ रुपये के व्यापार का अनुमान था, लेकिन दिल्ली समेत देश भर के लोगों में श्री राम मंदिर को लेकर उत्साह और देश के 30 शहरों से फिजूलखर्ची हासिल करने के बाद कैट ने आज अपना पुराना अनुमान बनाया गया है। अब मंदिर के उद्घाटन से एक लाख करोड़ रुपये का कारोबार होने का अनुमान है. कैट के राष्ट्रीय नाम प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि देश में व्यापार वृद्धि की मात्रा में आस्था और विश्वास के बल पर कई नए व्यापार का सृजन हो रहा है। उन्होंने बताया कि केवल देश की राजधानी में ही 20,000 करोड़ रुपये के कारोबार का अनुमान है.

एक करोड़ रुपये के कारोबार के अनुमान के आधार पर प्रवीण खंडेलवाल ने कहा, श्री राम मंदिर की प्रतिमूर्ति और अन्य कलाकारों के अनुराग और दान की वज़ह से 22 जनवरी तक देश भर में लगभग 30 हजार से अधिक विभिन्न कार्यक्रम होने जा रहे हैं। बाज़ारों में शोभा यात्राएँ, श्री राम पैदल यात्रा, श्री राम रैली, श्री राम फेरी, बाइक एवं कार रैली, श्री राम पैदल यात्रा सहित अनेक आयोजन किये जा रहे हैं। प्लास्टिक को सजाने के लिए श्री राम झंडे, तख्ते, टोपी, टी-शर्ट, राम मंदिर के शीर्ष के शापे कुर्ते की बाजार में जोरदार मांग है।

उन्होंने बताया कि श्री राम मंदिर मॉडल की मांग में तेजी से बढ़ोतरी हुई है, देखते हैं देश भर में 5 करोड़ से ज्यादा मॉडल की बिक्री होने का अनुमान है। देश के अलग-अलग शहरों में मॉडल तैयार करने के लिए दिन रात काम चल रहा है। बड़े पैमाने पर म्यूजिकल ग्रुप, ढोल, ताशे, बैंड, शहनाई, नफीरी वादक वाले कलाकार बुक हो गए हैं, जहां शोभा यात्रा के लिए हुंकारियां बनाने वाले कलाकार और कलाकारों को भी बड़ा काम मिला है। देश भर में मिट्टी और अन्य वस्तुओं से बनीं करोड़ों की मांग। बाज़ारों में रंग-बिरंगी रोशनी करना, फूलों की सजावट आदि की भी बड़े पैमाने पर व्यवस्था हो रही है। भंडारे की तैयारी भी जोर शोर के साथ जारी है। ऐसे में श्रीराम के मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से देश की अर्थव्यवस्था को बूस्टर डोज मिलने वाला है।

ये भी पढ़ें

WEF 2024: 56% प्रमुख अर्थशास्त्रियों ने कहा- 2024 में भी वैश्विक अर्थव्यवस्था रुकेगी, भारत के लक्ष्यों में दक्षिण एशिया को लेकर आएंगे

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *