Breaking
Sun. Jun 16th, 2024

[ad_1]

भारत में प्याज की कीमतें: पिछले महीने सरकार ने प्याज की स्काई कंपनी को मार्च, 2024 तक के लिए रोक लगा दी थी। तब तक का प्याज भाव 80 रुपये प्रति किलो तक पहुंच चुका था. एक्सपोर्ट बंद होने के बाद कुछ राहत मिली और प्याज का रेट 60 रुपये तक पहुंच गया। अब उम्मीद की जा रही है कि अगले साल जनवरी में प्याज 40 रुपये प्रति रेस्टॉरेंट के पास बिकाऊ प्लाजा में बिकेगा।

प्रतिबंध से डिलिवरी को जारी किया गया

उपभोक्ता मामलों के सचिव रोहित कुमार सिंह ने उम्मीद जताई है कि फिल्म पर प्रतिबंध से राहत मिलेगी। उन्होंने बताया कि जनवरी, 2024 से प्याज और नीचे ग्यान लगभग 40 रुपये प्रति किलोग्राम पर उपलब्ध होगा। उनका औसत दाम 57 रुपए प्रति किलोग्राम है। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द प्याज की दरें और नीचे आएंगी। लोग देखने लगे थे कि प्याज 100 रुपये को टच करेगा। मैग, जिसका मुख्य आकर्षण एक्सपोर्ट बैन में कई जजमेंट शामिल हैं, अब अलग असर देखने को मिल रहा है।

किसानों पर नहीं होगा बैन का असर

उन्होंने कहा कि एक्सपोर्ट बैन से किसानों को कोई खास फर्क नहीं पड़ता। भारत और बांग्लादेश के समुद्री क्षेत्र में समुद्री तट का लाभ उठाने की कोशिश की जा रही थी। हालाँकि, इसका उपयोग करने से बहुत लाभ होगा।

बांग्लादेश, मलेशिया और बेल्जियम जा रहा था

जुलाई से नवंबर तक प्याज़ में लगभग पूरी हो चुकी थी। अप्रैल से अगस्त के दौरान देश से करीब 9.75 लाख टन प्याज का निर्यात हुआ। भारत से सबसे ज्यादा बांग्लादेश, मलेशिया और पुर्तगाल को भेजा गया। प्याज़ में कमी की रिपोर्ट के अनूठे सिरे से उछाल आया था।

25 किसान रिश्तेदारी सरकार ने की

पहले सरकार ने ओएनजीसी पर प्रतिबंध लगाने से पहले अक्टूबर में पटाखों को राहत देने के लिए अतिरिक्त स्टॉक को बाजार में 25 रुपये प्रति बच्चे के खाते से शुरू कर दिया था। प्याज के रेट को कंट्रोल में रखने के लिए सरकार ने मिनिमम एक्सपोर्ट प्राइस (एमईपी) को भी 800 डॉलर प्रति टन कर दिया था।

ये भी पढ़ें

मसाला निर्यात: पूरी दुनिया में भारतीय मसालों का जलवा, जॉइंट रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा, तेजी से भी बढ़ा

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *