Breaking
Mon. May 20th, 2024

[ad_1]

भारतीय शेयर बाजार: देसी-विदेशी उद्यम के भारी निवेशकों की संख्या भारतीय शेयर बाजार (भारतीय शेयर बाजार) पर है। कॉपर्स (सेंसेक्स) और कॉमर्स (निफ्टी) ऐतिहासिक उच्च स्तर पर कारोबार कर रहा है। भारतीय बाजार में तेजी का श्रेय घरेलू खुदरा निवेशक (घरेलू खुदरा निवेशक) को जाता है। ये हमेशा से माना जाता रहा है कि महाराष्ट्र और गुजरात के नागरिक ही सबसे ज्यादा शेयर बाजार में निवेश करते हैं। लेकिन इसे लेकर एक इंटरव्यू वाला पात्र सामने आया है। शेयर बाजार में निवेश करने वाले रजिस्टर्ड उद्यमियों की संख्या के मामले में उत्तर प्रदेश ने गुजरात को पीछे छोड़ दिया है। इतने ही नहीं सबसे बड़े नए निवेशक भी बाजार में उत्तर प्रदेश से आ रहे हैं।

एनएसई के आंकड़ों के अनुसार नवंबर 2023 के अंत तक कुल 83.5 मिलियन रजिस्टर्ड निवेशक शामिल थे, जिनमें महाराष्ट्र के सबसे बड़े निवेशक शामिल थे, कुल संख्या 14.6 मिलियन यानी (1.46 करोड़) है। इसके बाद बारी आती है उत्तर प्रदेश की जहां से कुल 8.7 मिलियन (87.35 लाख) यात्री रजिस्टर हैं। गुजरात 7.5 मिलियन ( 75 लाख) के साथ तीसरे स्थान पर है। 4.7 मिलियन (47 लाख) की संख्या 4.7 मिलियन के साथ चौथे और पश्चिम बंगाल में भी 4.7 मिलियन के साथ वाणिज्यिक स्थान पर है।

एन स्केल के आंकड़ों के अनुसार 2009-10 में देश में पंजीकृत कुल जनसंख्या में प्रदेश से पंजीकृत जनसंख्या की उत्तर प्रदेश में 6.1 प्रतिशत थी जो नवंबर 2023 में भारी 10.5 प्रतिशत पर जा पहुंची। महाराष्ट्र से पंजीकृत न्यूनतम की समान अवधि के दौरान 19.7 प्रतिशत से रिकॉर्ड 17.5 प्रतिशत प्रति वर्ष है। जबकि गुजरात की दुकान पर 13 प्रतिशत से 9 प्रतिशत की छूट दी गई है। देश में कुल रजिस्टर्ड शेयर बाजार में 48.3 फीसदी निवेशक टॉप 5 राज्यों से आते हैं।

एनएसई के आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में नई आवेदकों की भर्ती के मामले सबसे आगे हैं। 2023-24 में 10.7 मिलियन नए रजिस्टर्ड यूनिट उत्तर प्रदेश के युवाओं की संख्या 1.6 मिलियन है, जो वर्ष की तुलना में 36.6 प्रतिशत अधिक है। अंतिम वित्त वर्ष में कुल नये रजिस्टर्ड 14.8 प्रतिशत निवेशक उत्तर प्रदेश से आये हैं। महाराष्ट्र इस मामले में उत्तर प्रदेश से पीछे है। 1.4 मिलियन नये रजिस्टर्ड उपभोक्ताओं की संख्या महाराष्ट्र के साथ दूसरे स्थान पर है। गुजरात 7.45 लाख के साथ तीसरे और राजस्थान 6.78 लाख के साथ चौथे स्थान पर है।

ये भी पढ़ें

अयोध्या राम मंदिर: राम मंदिर के उद्घाटन पर 22 जनवरी को 50,000 करोड़ रुपये का कारोबार होने का अनुमान, अयोध्या में तैयारी जोरों पर

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *