Breaking
Thu. Jun 20th, 2024

[ad_1]

तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था: भारतीय अर्थव्यवस्था की सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ रही हैं। हाल ही में हमने 4 ट्रिलियन डॉलर की इकोनोमी बनने का लक्ष्य हासिल किया था. अब भारत तेजी से 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की ओर कदम बढ़ा रहा है। उम्मीद जताई जा रही है कि भारत जल्द ही दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगी। वैश्विक रेटिंग एजेंसी एसएंडपी ने भी अब इस पर मुहर लगा दी है।

वैश्विक रेटिंग एजेंसी एसएंडपी का अनुमान

रेटिंग एजेंसी एसएंडपी (एसएंडपी) ने अनुमान लगाया है कि भारत 2030 तक आसानी से दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। उसे यह लक्ष्य हासिल करने में भारी परेशानी नहीं आने वाली। उन्होंने कहा कि भारत का आर्थिक विकास दर 2026-27 तक 7 फीसदी होगा. एजेंसी ने अपने ग्लोबल क्रेडिट आउटलुक 2024 में बताया कि वित्त वर्ष 2023-24 में भारत की मानसिकता 6.4 प्रतिशत रहने वाली है। पिछले साल यह 7.2 फीसदी रही थी. एजेंसी का अनुमान है कि वित्त वर्ष 2026-27 में यह 7 प्रतिशत तक पहुंचेगा और 2030 तक भारत की दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने का मार्ग प्रशस्त होगा।

तीन साल तक तेजी से जनसंख्या वृद्धि इकोनोमी

एजेंसी के मुताबिक, अगले तीन साल तक भारत में तेजी से जनसंख्या बढ़ती रहेगी। उनके सामने कोई चुनौती नजर नहीं आई। भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी इंडस्ट्री है। आगे सिर्फ अमेरिका, चीन, जर्मनी और जापान हैं। अमेरिका की कीमत 26.46 ट्रिलियन और चीन की 19.37 ट्रिलियन डॉलर है। इसके बाद जर्मनी और जापान की अर्थव्यवस्था जो कि क्रमशः 4.3 और 4.4 ट्रिलियन डॉलर है। भारत के लिए जर्मनी और जापान को पार करना बहुत मुश्किल नहीं होने वाला है।

भारत का विकास ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग हब

रेटिंग एजेंसी ने कहा कि भारत को ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग हब बनने पर ध्यान देना होगा। अगर ऐसा हो गया तो भारत को आगे बढ़ने से कोई रोक नहीं सकता। भारत की इंडस्ट्रीज़ सर्विस सेक्टर पर बुनियादी तौर पर सहमति है। भारत को आर्थिक कार्मिक जारी रखने के लिए कर्मचारियों का कौशल विकास करना होगा। साथ ही महिलाओं को अधिक से अधिक रोजगार देने की योजना बनाना आवश्यक है।

ये भी पढ़ें

कंपनियां बंद: देश में 1 लाख से अधिक दिवालियापन, 1168 दिवालियापन बंद हो गया

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *