Breaking
Fri. Feb 23rd, 2024


बैंक वेतन वृद्धि: बैंक असोसिएशन (आईबीए) और स्टाफ यूनियनों के बीच 17 फीसदी वेतन बढ़ोतरी को लेकर सहमति बनी है। यह समझौता एक नवंबर, 2022 से लागू होगा और पांच साल तक लागू रहेगा। इसके अनुसार, सभी सरकारी बैंकों को मिलाकर वेतन वृद्धि करने से 12449 करोड़ रुपये से ऊपर का भार बढ़ा।

17 सरकारी वेतन वृद्धि

अधिनियम के अनुसार, सभी सार्वजनिक क्षेत्र के पदों में 17 प्रतिशत वेतन वृद्धि होगी। इस पर 12449 करोड़ खर्च होंगे. नई एग्रीमेंट से लगभग 9 लाख कर्मचारी और 3.8 लाख अधिकारी लाभान्वित होंगे। 7 दिसंबर को स्टाफ और स्टाफ यूनियनों के बीच बातचीत हुई थी। वेतन वृद्धि को लेकर एक आदर्शयू भी साइन किया गया। नई वेतन वृद्धि की प्रक्रिया 6 महीने में पूरी कर ली जाएगी।

इस एक्ट में ये रहे प्रमुख मुद्दे

सिद्धांतयू के अनुसार, नया वेतन वृद्धि एक नवंबर, 2022 से लागू होगा। यह अगले 5 शास्त्रीय तक लागू रहेगा। नए पे स्कैन के लिए डीए कोफ़्ज़ी पे मिला दिया जाएगा। यह नियम 31 अक्टूबर, 2022 से लागू माना जायेगा। साथ ही 3 फिसदी पावरिंग भी लागू होगी, जिससे 1795 करोड़ रुपए खर्च हो जाएंगे। अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए वार्षिक वेतन वृद्धि के अलग-अलग नियम होंगे। हालाँकि, पेंशन में वृद्धि के प्रस्ताव पर अभी निर्णय बाकी है। मगर, उन्हें वन टाइम पैस्टमेंट करने पर सहमति बन गई है

हर शनिवार की छुट्टी पर अभी निर्णय नहीं

कंपनी ने सरकार से हर शनिवार को छुट्टी पर रहने की मांग की है। बैंकों की दूसरी और चौथी शनिवार की छुट्टियाँ रहती हैं। वित्त राज्य मंत्री भागवत कराड ने संसद में इसकी पुष्टि कर दी थी। मगर उन्होंने यह नहीं बताया कि इस पर सरकार विचार कर रही है या नहीं। आइडियोलॉजी में भी इसका ज़िक्र नहीं किया गया है। फाइव डे वीक पर निर्णय आगे हो सकता है। दीपावली से पहले केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों का शोरूम चार प्रतिशत कर दिया था जबकि बैंक कर्मचारी पिछले साल से ही वेतन की मांग कर रहे थे।

ये भी पढ़ें

आईआईटी प्लेसमेंट: 30 फीसदी तक कम दाम में मिले फ्लैट, नहीं मिल रहे अच्छे जॉब ऑफर, आईआईटी ने बनाई दूरी



Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *