Breaking
Fri. May 24th, 2024

[ad_1]

जतिन दलाल मामला: आईटी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी विप्रो (विप्रो) ने 2023 में अपने शीर्ष नेतृत्व के कई अधिकारियों की दूसरी कंपनी के हाथ गंवा दिए। यही हाल इंफेक्शन का भी हो रहा है. कंपनी ने कॉग्निजेंट के हाथों अपने कई उच्च अधिकारियों को नियुक्त किया। इसके बाद दोनों कंपनियों ने अपने पूर्व अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की. विप्रो ने पूर्व सीएफओ जतिन शेयर (जतिन दलाल) और पूर्व एसवीपी मोहम्मद हक (मोहम्मद हक) के खिलाफ मुकदमा दायर किया था। विप्रो ने डॉट से 25.15 करोड़ रुपये हर्जाना और 18 प्रतिशत सालाना ब्याज की मांग की है। कंपनी के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी संजीव सिंह और ईस्ट मेडिसिन (iDEAS) के बिजनेस हेड राजन कोहली भी जॉब फ़ोर सीएमएस आईटी (CMS IT सर्विसेज) और साइटसटेक (CitiusTech) जैसे कंपनी के सीईओ बन गए हैं।

10 सरकारी कर्मचारियों में विप्रो ठीक नहीं हो सकता

मनीकंट्रोल को वोट के खिलाफ विप्रो की स्टार्टअप की कॉपी हासिल हुई है। इसके अनुसार, विप्रो ने 10 प्रमुख आईटी कंपनियों की एक सूची बनाई है। विप्रो का सीधा प्रतिद्वन्द्वी माना गया है। विप्रो छोड़ने के 12 महीने बाद तक इन एजेंसियों में कर्मचारी नौकरी नहीं कर सकते। इनमें एक्सेंचर, कैपजेमिनी, कॉग्निजेंट, डेलॉइट, डीएक्ससी (पूर्व में एचपी), एचसीएल टेक, आईबीएम, इन्फोसिस, टाटा कंसल्टेंसी (टीसीआईएसआर) और टेक महिंद्रा शामिल हैं।

जतिन डाटाबेस के पास विश्वास डाटा

विप्रो के अनुसार, नॉन कंपीट क्लॉज के अकाउंट से जतिन स्टूडियो के पास भी इन सोसायटी के नाम थे। फिर भी उनकी एक कंपनी में शामिल होना चिंता का विषय है. इतने बड़े पद पर काम करने वाले स्टाफ के पास कंपनी की स्थिति और व्यवसाय के बारे में विश्वास की जानकारी होती है।

पूर्व सीएफओ पर नॉन कंपीट क्लॉज के उल्लंघन का आरोप

विप्रो ने जतिन वोट के ख़िलाफ़ केसों को वॉल्ट में भेजे जाने का विरोध किया है। कंपनी ने कहा कि उन्होंने नॉन कंपनी क्लॉज का उल्लंघन किया है। इस मामले की सुनवाई अदालत में होनी चाहिए। हालाँकि, अदालत ने यह मामला खारिज कर दिया। विप्रो की संपत्तियों, शेयरों और 100 मिलियन डॉलर के बड़े डील्स में शामिल थे। वह विप्रो वेंचर्स के 300 मिलियन डॉलर के फंड की निवेश समिति में भी थे। यह शिक्षण में निवेश करता है. उनके काम की आखिरी तारीख 30 नवंबर 2023 थी।

ये भी पढ़ें

अलास्का एयरलाइंस: विमान के साथ उड़ी एयरोप्लेन की खिड़की, मौत के मुंह से लौटी 180 जिंदगियां, सभी 65 विमान उड़े

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *