Breaking
Fri. Feb 23rd, 2024


आईटी क्षेत्र का वेतन: आईटी सेक्टर में गंदगी के चर्चे इन दिनों आम हैं। खतरा मंडरा रहा है कि अगले साल भी आईटी सेक्टर में कुछ खास तेजी नहीं आएगी। उदाहरण के लिए कर्मचारियों को कच्चे आर्किटेक्चर इंक्रीमेंट नहीं मिले। खोज में आई गिरावट भी इसी तरह और संकेत दे रही है। मगर, अब जो जानकारी आरेख सामने आया है वह आपको चौंका देवी बताता है। दिग्गज आईटी कंपनी विप्रो के विदेशी सीईओ थिएरी डेलापोर्ट (थियरी डेलापोर्ट) की सालाना कमाई करीब 82 करोड़ रुपये है। किसी भी आईटी कंपनी के सीईओ का वेतन उनके आसपास भी नहीं है।

एचसीएल और टी.टी. के सीईओ से काफी ज्यादा वेतन

उन्हें भारतीय आईटी सोसायटी में सबसे ज्यादा वेतन पाने वाला सीईओ बताया जा रहा है। वित्त वर्ष 2023 के लिए विप्रो की फाइलिंग में यह जानकारी सामने आई है। डेलापोर्ट का विज्ञापन एचपी वेतन सीएल और टी.टी. के सीईओ से काफी अधिक है। विप्रो से डेलापोर्ट की कमाई 82 करोड़ रुपये से भी ज्यादा है। आईटी सेक्टर में सबसे ज्यादा सैलरी के मामले में दूसरे नंबर पर इंफोसिस के सीईओ सलिल पारेख हैं। उनका वार्षिक वेतन 56.45 करोड़ रुपये है। एचसीएल के सीईओ सी विजयकुमार की शुरुआती कमाई 28.4 करोड़ रुपये है।

2020 में विप्रो से जुड़े थिएरी डेलापोर्ट

फ्रांस के रहने वाले थिएरी डेलापोर्ट देश की सबसे बड़ी टेक कंपनी में से एक विप्रो के सीईओ हैं। 93,400 करोड़ रुपये से ज्यादा कीमत वाली इस कंपनी में वह सीईओ और ऑटोमोबाइल डायरेक्टर के पद पर हैं। वित्त वर्ष 2023 में उनकी नियुक्तियां 82.4 करोड़ रुपये रही। 56 साल के डेलापोर्ट के पास ग्लोबल आईटी सेक्टर में तीन दशक का अनुभव है। विप्रो से जुड़ने से पहले वह फ्रांस की आईटी कंपनी कैपजेमिनी में चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (सीओओ) का पद संभाल रहे थे। जुलाई, 2020 में उन्होंने विप्रो की बागडोर सफ़ारी की थी।

कैपजेमिनी के साथ उनकी लगभग 25 साल की संपत्ति है

डेलापोर्ट ने पेरिस की पब्लिक यूनिवर्सिटी साइंसेज से इकोनोमी एंड फाइनेंस में ग्रेजुएशन की थी। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत जुलाई, 1992 में ऑर्थर एंडरसन एंड कंपनी में एक्सटर्नल मैकेनिक के रूप में की थी। तीन साल तक काम करने के बाद 1995 में वह कैपजेमिनी के साथ जुड़ गईं। इस कंपनी में उनकी लगभग 25 साल की अवधि है। विप्रो के मालिक अजीम प्रेमजी हैं। वह कंपनी के बोर्ड में शामिल हो गए हैं।

ये भी पढ़ें

Share Market This Week: इस साल थोड़ा संभलकर करना होगा कारोबार, इन पर नजर तो बचेगा

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *