Breaking
Fri. May 24th, 2024

[ad_1]

जीडीपी Q2 डेटा अपडेट: गुरुवार 30 नवंबर 2024 को स्थिर वित्त वर्ष 2023-24 की दूसरी तिमाही जुलाई से सितंबर तक के लिए जातियों का डेटा घोषित किया जाएगा। और पहली तिमाही के समान दूसरी तिमाही में भी आर्थिक विकास दर का चरित्र शानदार रहने की उम्मीद है। आर्थिक मामलों के सचिव अजय सेठ ने भी उम्मीद जताई कि दूसरी तिमाही में अर्थशास्त्र के आंकड़े बेहतर होंगे।

नोटबुक मंत्रालय दूसरी तिमाही के लिए लैपटॉप के आंकड़े जारी करना चाहता है। अप्रैल से जून के बीच पहली तिमाही में आर्थिक विकास दर 7.8 फीसदी रही थी। दूसरी तिमाही में भी अर्थव्यवस्था में तेज विकास देखने को मिला है। आर्थिक मामलों के सचिव ने कहा कि दूसरी तिमाही के आंकड़े बेहतर होंगे। उन्होंने कहा कि खाद्य उत्पादों पर खर्च में अभी भी वित्तीय घाटा 5.9 प्रतिशत रहने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि 5 साल तक खाद्य उद्योग में बढ़ोतरी के बावजूद वित्तीय संस्थान अपने लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाएंगे। सरकार ने 2025-26 तक वित्तीय वर्ष 2019-20 में 4.5 प्रतिशत से कम आय का लक्ष्य रखा है।

इससे पहले 6 अक्टूबर 2023 को आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा था कि शहरी क्षेत्र में भी सुधार की मांग की जा रही है। उन्होंने कहा कि तेजी, कंज्यूमर और बिजनेस सेंटीमेंट बेहतर है तो सरकार के निवेश खर्चों में ग्रोथ से अर्थव्यवस्था को फायदा मिल रहा है। बैंकों और अभिलेखों के वर्गीकरण में सुधार किया गया है, ऑक्सफोर्ड चेन बेहतर हुआ है। रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि वैश्विक और आर्थिक तनाव सबसे बड़ा खतरा बना हुआ है।

आरबीआई ने 2023-24 के लिए 6.5 प्रतिशत का लक्ष्य रखा है। जबकि सेंट्रल बैंक का मानना ​​है कि दूसरी तिमाही में 6.5 प्रतिशत की दर से रहने की उम्मीद है। जबकि तीसरी तिमाही में 6 प्रतिशत और चौथी तिमाही में 5.7 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

ये भी पढ़ें-

चार्ली मंगर की मृत्यु: नहीं रहे वारेन बफ़े के सलाहकार चार्ली मंगर, 99 वर्ष की आयु में ली अंतिम सांस

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *