Breaking
Sat. Feb 24th, 2024


भारत में क्रिप्टोकरेंसी: अमेरिका में वेलकम ही स्टॉक (बिटकॉइन) में एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) की मंजूरी मिल गई। मगर, भारत सरकार का मूड बिल्कुल अलग है। सरकार ने अंतिम वैज्ञानिक से चल रहे क्रिप्टो एक्सचेंज पर सख्त एक्शन ले ही लिया। अब भारत में बायनेन्स (Binance), कुकॉइन (Kucoin) और ओके आर्टिस्ट (OKX) जैसी क्रिप्टो प्लेटफॉर्म की वेबसाइट पर बैन लगा दिया गया है। सरकार का आरोप है कि ये क्रिप्टो प्लेलेट फॉर्म मनी लॉन्ड्रिंग के मोल्ड को बिना भारत में काम पर लगाए रखा गया है। इससे भारत सरकार को हर साल लगभग 3000 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास (शक्तिकांत दास) ने गुरुवार को ही ऐसी कार्रवाई के संकेत दिए थे।

क्रिप्टो मेनिया को नज़रअंदाज़ नहीं किया जाएगा- शक्तिकांत दास

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि क्रिप्टो के सेंट्रल बैंक में कोई बदलाव नहीं आया है। मूल को लेकर कहां जा रहा है. इससे हमें कोई मतलब नहीं है. अगर लोग क्रिप्टो के पीछे जाते हैं तो उन्हें जोखिम का सामना करना पड़ता है। गवर्नर शक्तिकांत दास ने ट्यूलिप मेनिया का उदाहरण देते हुए कहा कि मुझे नहीं लगता कि दुनिया और उभरते बाजार क्रिप्टो मेनिया को नजरअंदाज कर दिया जाएगा। 17वीं सदी में डच ट्यूलिप की यूक्रेन में जोरदार उछाल आया था। इसे इतिहास में यूनेस्को का सबसे बुरा लिफ्टपटक के तौर पर याद किया जाता है। हालाँकि, वह मैकेनिकल टेक्नोलॉजी को लेकर सकारात्मक रहे। इसी तकनीक पर क्रिप्टोकरंसी काम करती है।

दिसंबर, 2023 में वित्त मंत्रालय ने नोटिस भेजा था

टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, दिसंबर, 2023 में वित्त मंत्रालय की रियल एस्टेट कंपनी यूनिट (FIU) ने इन प्लेटफॉर्म्स को नोटिस जारी किया था। साथ ही सूचना मंत्रालय से इन यूआरएल ब्लॉक करने को भी कहा था। वित्त मंत्रालय ने बायेंस, कूकोइन और ओकेएक्स के अलावा हुओबी (हुओबी), कारकेन (क्रैकेन), गेट आयो (गेट.आईओ), बिटरे एंटरप्राइज़ (बिट्ट्रेक्स), बिटिरामेंप (बिटस्टैंप), एमईए एंटरप्राइज़सी फिशलोबल (एमईएक्ससी ग्लोबल) और बिटफिनेक्स (बिटफिनेक्स) को शामिल किया है। पर भी कार्रवाई है. इन क्रिप्टो प्लॉट्स को ऐप स्टोर से पहले ही हटा दिया गया था। जल्द ही अन्य संस्करण भी काम करना बंद कर देंगे।

वेबसाइट और ऐप ने काम करना बंद कर दिया

बायेंस ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर बताया कि हमारी वेबसाइट और ऐप भारत में काम नहीं कर रहे हैं। हालाँकि, कंपनी ने प्रतिभागियों को विश्वसनीय समर्थन दिया है कि उनका पैसा सुरक्षित है। बायनेन्स ने कहा है कि वे भारत के मालिकों का पालन-पोषण करने के लिए बाध्य हैं। साथ ही उद्योग के विकास के लिए लगातार रेग्युलेटर्स के साथ संपर्क में हैं।

हर साल सरकारी कागजात को 3000 करोड़ रुपये का नुकसान

भारतीय क्रिप्टो मुद्रा मुड्रेक्स (मुड्रेक्स) के सीईओ एडुल पटेल ने बताया कि फाईयू से नोटिस मीटिंग के बाद हमने इक्विटी को अपने फंडर्स शेयर करने की सलाह दे दी थी। इस्या सेंटर (एस्या सेंटर) के रिसर्च के मुताबिक, ग्लोबल क्रिप्टो रिव्यू की वजह से हर साल सरकारी रेटिंग को करीब 3000 करोड़ रुपये का नुकसान होता है क्योंकि हमारे भारत में कोई रजिस्टर्ड कंपनी नहीं है।

ये भी पढ़ें

महंगे घर: इस सीईओ ने बनाया साल का सबसे बड़ा डेकोरेटिव डिलर, खरीदा 116 करोड़ रुपए का घर

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *