Breaking
Sat. May 18th, 2024

[ad_1]

संरक्षित भारत 2047: वित्त मंत्री ने कहा है कि 2047 तक भारत को विकसित देश बनाने का लक्ष्य रखा गया है ताकि हम आने वाली पीढ़ी का भविष्य बेहतर के साथ अपने हाथों में शानदार देश बना सकें। वित्त मंत्री ने कहा कि हम ये सुनिश्चित करना चाहते हैं कि देश के युवाओं के लिए अपने घरों में ही रहने का अवसर हो और वे अपने देश में ही रहकर अपना जीवन संवार लें और उन्हें ये कहना चाहिए कि यहां कोई अवसर नहीं है।

आने वाली पीढ़ी के भविष्य को संवारने की कहानी

बिजनेस चैंबर फिक्की की ओर से विकसित भारत 2047 को लेकर ऑयोजित नेशनल कॉन्फिडेंस का खुलासा करते हुए वित्त मंत्री ने कही ये बातें। वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हम सभी का लक्ष्य है कि 2047 तक हम भारत के लक्ष्य को विकसित कर सुंदरता हासिल करें। वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री का संदेश स्पष्ट है, भारत के लिए इस लक्ष्य को हासिल करने का मकसद कोई ऊंची जमीन हासिल नहीं करना है। बल्कि ये हमारा कर्तव्य है कि हम आने वाली पीढ़ी को बेहतर भविष्य के साथ बेहतर भारत के युवा साथी दें, जहां उनकी तलाश हो।

पूर्व में गंवाए गए अवसर

वित्त मंत्री ने पूर्व के सुपरमार्केट पर आक्रामक रूप से हमला करते हुए कहा कि 1947 में आजादी की मुलाकात के बाद कई दशकों के हमले हुए हैं। इस दौरान अमेरिका या अमेरिका की पहली वाली जेनरेशन ने कमियों वाला दौर देखा है। अवसरों को बर्बाद करते हुए देखा है. देश में होने वाले तानाशाही के बावजूद उन्हें देश से बाहर कर दिया गया क्योंकि यहां पर उनके लिए पर्याप्त अवसर नहीं थे।

उद्योग जगत सबसे बड़ा ग्राहक होगा

वित्त मंत्री ने कहा कि देश के उद्योग जगत का 2047 तक विकसित भारत के लक्ष्य को हासिल करने में सबसे बड़ा योगदान है और वे सबसे बड़े लाभार्थी होंगे। वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में हम 2014 में भारत को 10वीं अर्थव्यवस्था से 5वीं अर्थव्यवस्था तक ले जाने में सफल रहे और प्रधानमंत्री ने कहा कि चुनावउनके तीसरे कार्यकाल के बाद भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया। और उसके बाद अगली पीढ़ी के रिफॉर्म्स का स्ट्राट को लागू करना सरकार की सबसे बड़ी जिम्मेदारी होगी।

ये भी पढ़ें

पीएसयू स्टॉक्स: पीएससी यू स्टॉक की घटती चमक, क्यों इन मल्टीबैगर्स स्टॉक्स को होल्ड नहीं करना चाहते हैं बिजनेसमैन?

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *