Breaking
Fri. May 24th, 2024

[ad_1]

दिव्यांगजनों के लिए आधार: आधार के आधार के लिए बायोमेट्रिक पहचान जरूरी है और इसके लिए भारतीय नागरिकों को आंखों की पुतलियां और हाथों की तस्वीरें और निक की निशानियां जरूरी होती हैं। इनमें से किसी भी व्यक्ति का बिना किसी ट्रेडमार्क का आधार नहीं बन सकता है। हालाँकि कभी आपने इस बात पर ध्यान दिया होगा कि यदि किसी व्यक्ति के हाथ बिना हैं, या किसी के हाथ या अंगुलियाँ नहीं हैं, तो वो आधार कैसे बनवाएगा? ऐसा ही एक मामला केरल में सामने आया था. अच्छी खबर यह है कि इसके आधार जारी करने वाली संस्था यू.

केरल से सामने आया विशेष मामला

केरल में जो मामला सामने आया है उसमें एक महिला के पास उंगलियां शामिल नहीं हैं, क्योंकि वो आधार के लिए नामांकन करने में असमर्थ हैं। इसे देखते हुए केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमिता और इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी और जल शक्ति राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने विशेष निर्देश दिए। इस महिला का नामांकन करने के लिए यूट्यूब संस्था को स्टांप स्टेप लिफ्ट के लिए आदेश दिया गया है। कैबिनेट मंत्री राजीव चन्द्रशेखर ने इसी संदर्भ में यह भी कहा कि सभी बेस्ड सर्विस सेंटर को काउंसिलल बायो इंडिपेंडेंट के लिए सलाह जारी की गई है, जिसके माध्यम से बेस एनरोलमेंट करने वाली शिक्षा को सिखाया गया है।

यूआरएल दस्तावेज़ की टीम ने तुरंत कदम उठाया

कैबिनेट मंत्री के निर्देशन की मुलाकात के दिन ही भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (सुपरडी स्टूडियो) की मान्यता प्राप्त हो गई। यू.टी. संस्था की एक टीम ने केरल के कोट्टायम स्थित कुमारकम में जोसीमोल पी जोस के घर विक्रेता का आधार नंबर तैयार किया। उनकी मां ने अधिकारियों को उनके समर्थन और सहायता के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि आधार की मदद से, उनकी बेटी अब सामाजिक सुरक्षा पेंशन और आवेदकों के लिए लॉटरी योजना कैवल्य सहित कई लाभ और सेवाओं का आसानी से लाभ उठा सकती है।

ये भी पढ़ें

सीईओ की सैलरी: आईटी सेक्टर में इस सीईओ की सैलरी सबसे ज्यादा है, इसके आसपास भी कोई नहीं है

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *