Breaking
Wed. Apr 17th, 2024


म्यूचुअल फंड: वेल्थ क्रिएशन का टूल फ़्रैंचाइज़ी फ़्रैंचाइज़ी फर्म में अच्छा माना जाता है। इसमें निवेश पर मीटिंग वाला रिटर्न यानी रिवाइवल टैक्स के आंकड़ों में शामिल होता है। क्रिस्चियन कानून के तहत इसे आय माना जाता है, जिस पर कैपिटल गेन टैक्स लगता है। टैक्स का कैल्कल पोर्टफोलियो किस तरह का है और इसमें आपका गोदाम कितना शामिल है, यह वर्जित विनियम पर है। फ़्रैंचाइज़ फ़ंड की पहली और सबसे अहम वैलिडिटी ओरिएंटेड फ़्रैंचाइज़ी फ़ंड की है।

इस फंड पर शेयर की तरह टैक्स

इक्विटी कानून के तहत, ऐसे इक्विटी फंड स्क्रैच जो अपने एसेट का 65 फीसदी या उससे भी ज्यादा हिस्सा भारत में लिस्टेड एसोसिएट्स के इक्विटी में निवेश करते हैं, इक्विटीज ओरिएंटेड फंड्स स्टॉक्स में निवेश करते हैं। वेल्लोर प्राइवेट लिमिटेड का पैसा प्राइवेट लिमिटेड के शेयर पर एक तरह का टैक्स लगता है।

शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म कैपिटल गन

प्राइवेट लिमिटेड में 12 महीने से ज्यादा का निवेश लार्गे टर्म माना जाता है। ऐसे में 12 महीने में सबसे ज्यादा निवेश पैसा लॉन्ग टर्म कैपिटल जनरल टैक्स पर निकाला जाता है। एक वित्त वर्ष में एक लाख रुपये तक के मुनाफ़े पर कोई टैक्स नहीं है। इससे ऊपर जो भी रिवाइव होगा, उस पर 10 प्रतिशत टैक्स लगेगा। बंधक बंधक 12 महीने से कम होने वाले निवेश को 12 महीने से कम समय में निकालने पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गन माना जाएगा। इस पर 15 प्रतिशत की दर से शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगाया गया।

टैक्स से जुड़े बदलावों में बदलाव

वित्त अधिनियम 2023 के माध्यम से टैक्स से जुड़े मौलिक निधि में बदलाव किया गया है, जिसके बाद एक नई श्रेणी बन गई है। इस क्लास में वे सभी रिटार्यड फंड स्कॉचें शामिल हैं, लॉट में 35 फीसदी से कम का निवेश है। इन तिथियों में फ़्रैंक फंड, गोल्ड/सिल्वर फ़्रेंड फ़्रैंक, विदेशी फ़्रेंड फ़ंड फ़्रैंक और विदेशी निवेशकों के स्टॉक में निवेश करने वाले भारतीय फ़्रेंड फ़्रेंड फ़्रैंक शामिल हैं। इसी तरह की स्कीम्स मुख्य रूप से बॉन्ड, डिबेंचर और अन्य फिक्स्ड इन्वेस्टमेंट्स में निवेश करती हैं।

गोदाम के खाते से टैक्स

एक अप्रैल 2023 या उसके बाद आपने इन स्टॉक फंडों में निवेश किया है या आगे निवेश किया है, तो स्टॉक लोन कुछ भी हो इससे होने वाला स्टॉक स्टॉक टर्मिनल कैपिटल जनरल माना जाएगा, जो आपके निवेश में शामिल होगा। आपकी नामांकन सूची में उस दर से टैक्स लगाना शामिल है।

यहाँ असली निशानदेही का फ़ायदा

डेट फंड फंड में आपका निवेश 31 मार्च 2023 या उससे पहले का है तो आपको निवेश का लाभ मिलता रहेगा। इस कंडीशन में डेट फंड की यूनिट को 36 महीने से ज्यादा की कमाई पर स्टॉक्स बेनेफिट के बाद 20 फीसदी लार्ज टर्म कैपिटल जनरल टैक्स पर रखा गया। साझीदारी टैग स्टैकी में मदद मिलती है। 36 महीने पहले शॉर्ट टर्म कैपिटल जनरेशन लागू होगा और टैक्स रिटर्न के खाते से मुनाफ़ा पर टैक्स लगेगा।

हाइब्रिड फंड टैक्सेशन

सभी ऐसे फ़्रैंचाइज़ी फंड स्कीट्स, फ़्लोरिडा भारतीय एसोसिएट्स के निवेशकों में 35 प्रतिशत से अधिक का निवेश है, लेकिन 65 प्रतिशत से कम है वो तीसरी श्रेणी में आते हैं। इनमें से कुछ हाइब्रिड फंड शामिल हैं। इन स्कीम में अगर आप 36 महीने से ज्यादा निवेश करते हैं तो यह लार्ज स्टार माना जाता है और बिक्री लाभ के बाद मुनाफ़ा पर 20 प्रतिशत टैक्स लगाया जाता है। शॉर्टस्टर्म कैपिटल जीन पर इस पर आय की तरह माना जाएगा और रेटिंग के हिसाब से टैक्स लगाया जाएगा।

ये भी पढ़ें:

टैक्स सेविंग फंड ने कमाल कर दिया, इस साल बेरोजगारी को 45 फीसदी तक का नुकसान हुआ

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *