Breaking
Fri. Feb 23rd, 2024


मेडी असिस्ट हेल्थकेयर आईपीओ: साल 2024 की शुरुआत के साथ ही आई दीपिका के आने का सिलसिला शुरू हो गया है। अब बैंगल स्थित मेडी असिस्ट स्कॉर्पियो का ईशू (मेडी असिस्ट हेल्थकेयर आईपीओ) स्टॉक वाला है। मेडी असिस्ट स्टोअर्म सहयोगियों को स्टॉर्ट पार्टी एडमिनिस्ट्रेशन प्रदान करता है। इस आई सर्टिफिकेट के जरिए कंपनी कुल 1,171.58 करोड़ रुपए जुटाने की कोशिश कर रही है। आई सील पूरी तरह से सेल के लिए ऑफर लाया जा रहा है और इसमें एक भी ताजा शेयर जारी नहीं होगा। ऐसे में आई सोलो राइस कंपनी के प्रोमोटरों के पास जाने वाली एक प्रयोगशाला है। अगर आप भी इसमें निवेश के बारे में सोच रहे हैं तो हम आपको इसके बारे में विस्तार से जानकारी दे रहे हैं।

कब खुली रही कंपनी का आई.पी.एस

मेडी असिस्ट का आईएसआई सोमवार 15 जनवरी 2024 को उद्घाटन हो रहा है। इसमें 17 जनवरी 2024 तक बोली लगाई जा सकती है। 18 जनवरी 2024 को किशोरी को शेयर का अलॉटमेंट होगा। जिन सब्सक्राइबर्स को अलॉटमेंट नहीं मिलेगा, उन्हें 19 जनवरी को फ़ायरव्यू हो जाएगा। डीमैट दस्तावेज में शेयर 19 जनवरी को शेयर किया जाएगा। कंपनी के स्टॉक्स बीएसई और एनएसई पर 22 जनवरी 2024 को होंगे। कंपनी ने यूक्रेन का सुपरमार्केट बैंड 397 से लेकर 418 रुपये के बीच तय किया है। इस आई सुपरमार्केट के स्टॉक का वैल्यूएशन 5 रुपये प्रति शेयर है।

कंपनी के GMP का हाल क्या है?

इन्वेस्टरगैन.कॉम के मुताबिक, शनिवार 13 जनवरी 2024 को मेडी असिस्ट का शेयर 54 रुपये प्रीमियम पर उपलब्ध है। इसका मतलब यह है कि कंपनी के स्टॉक की स्टॉक सूची 12.92 प्रतिशत यानी 472 रुपये प्रति शेयर हो सकती है। इस आई सुपरमार्केट सुपरमार्केट के लिए 35 प्रतिशत हिस्सा आरक्षित है।

वहीं क्वाली पिरामिड इंस्टीट्यूशनल बायर्स के लिए सबसे ज्यादा 50 फीसदी हिस्सा और हाई नेट इंडिविजुअल्स के लिए कुल 15 फीसदी हिस्सा रिजर्व रखा गया है। इस आई मसाला में स्ट्रैटेजी प्रोड्यूसर कम से कम 35 स्टॉक का एक बड़ा हिस्सा खरीद सकते हैं। मुख्य रूप से 13 लॉट ईआई 455 स्टॉक पर बोली बिक्री इस आई मंडल में रखी जा सकती है। ऐसे में स्ट्रैब्स सब्सक्राइबर्स 14,630 रुपये से लेकर 1,90,190 रुपये तक निवेश कर सकते हैं।

क्या करती है कंपनी?

मेडी असिस्ट हेल्थ केयर लिमिटेड एक हेल्थ एंड केयर टेक कंपनी है, जो थर्ड पार्टी सर्विसेज है। यह कंपनी शेयरधारक, उनकी बीमा कंपनियों और अस्पतालों के बीच एक ब्रिज की तरह काम करती है।

ये भी पढ़ें-

Tata New Deals: अब टाटा के हो जाएंगे चिंग्स सीक्रेट, ब्रांड समेत कई, इतने हजार करोड़ में होने वाली है बोथ डील्स

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *