Breaking
Mon. May 20th, 2024

[ad_1]

परिवार के लिए मेडिक्लेम पॉलिसी: स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ बनी हेल्थ क्वालिटी मेडिक्लेम अब हर आदमी की चाहत बन गई है। इससे ना सिर्फ आपको बल्कि पूरे परिवार को सख्त के सरकारी इलाज से बेरोजगारी में काफी मदद मिलती है। हालाँकि, कई बार लोग ऐसी छोटी-छोटी गलतियाँ करते हैं, जो आगे चलकर बहुत भारी पड़ जाती हैं। इससे कठिन समय में बीमा का कोई लाभ नहीं मिलता और आपका क्लेम रिजेक्ट हो जाता है। आइए समझते हैं कि कैसे आप अपनी हेल्थ रिज़ॉर्ट को फुल ड्रू लिविंग क्लेम का पूरा लाभ उठा सकते हैं।

प्रमाणपत्रों का ध्यान से पढ़ें

स्वास्थ्यवर्धक क्लेम रिजेक्ट के होने के कुछ खास कारण होते हैं। सबसे बड़ी मूल्यवान क्रेडिट कार्ड समय-समय पर आपके विद्यार्थियों को ध्यान से नहीं पढ़ना होता है। इनकी सबसे बड़ी वजह आपकी बीमारी को छिपाना होता है। अगर आप पहले से ही अपनी बीमारी के बारे में बताएंगे तो न सिर्फ बेहतर बीमा मिलेगा बल्कि क्लेम के समय समस्या भी नहीं आएगी। कई बार तो बीमा कंपनी आपकी पॉलिसी भी रिजेक्ट कर सकती है।

कौन सी बीमारी नहीं होती कवर

कई बीमारियों की दवा में तुरंत सुधार नहीं होता। इसके लिए आपको 1 से 4 साल तक इंतजार करना होगा। कच्चे बालों में आप इन चिकित्सीय उपचारों के लिए क्लेम नहीं ले सकते। इसके अलावा किडनी, पर्किंसंस, अल्जाइमर और एचआईवी मेडिक्लेम शामिल नहीं हैं। इसलिए सोच समझकर प्लास्टिक लें.

इलाज के दस्तावेजी दस्तावेज़

यदि आपका दस्तावेज़ दस्तावेज़ जमा नहीं हुआ है तो क्लेम के समय परेशानी हो सकती है। साथ ही इलाज के दौरान सभी बिलों की ओरिजिनल कॉपी हमेशा सुरक्षित रखें। ये आपसे कभी भी जादुई जा सकता है। अस्पताल के बिल, अर्थशास्त्र के कागज और पेशेंट रिकॉर्ड को क्लेम के दौरान जोड़ा जाएगा तो कोई भी आपका क्लेम रिजेक्ट नहीं कर पाएगा।

फ्रॉड क्लेम कभी भी ना करें

कभी भी फ्रॉड क्लेम न करें. डिजिटल दुनिया में ये आसानी से पकड़ में आ जाते हैं। क्लेम की प्राप्ति संभव नहीं है, लेकिन आपकी मंजूरी निश्चित रूप से रिजेक्ट हो सकती है। हॉस्पिटल के साथ मिलकर फेक बिल बनाने के लिए हॉस्पिटल को ब्लैकलिस्ट या पार्ट से हटाया भी जा सकता है।

लिखित में कारण बताएं कंपनी

क्लेम रिजेक्ट ने वक्ता बीमा कंपनी को लिखित में कारण बताया है। यदि आप नहीं चाहते कि क्लेम खारिज हो तो सिर्फ इन पर ध्यान दें। बीमा कंपनी सभी कर्मचारियों का ध्यान से पढ़ें। कई बार एजेंट आपसे कुछ चीजें छिपा ले जाते हैं। आगे व्यापारी वही शर्त क्लेम रिजेक्शन का कारण बन जाता है। अपनी मंजिल पर हर हाल में कैशलेस इलाज की सुविधा का प्रयास करें। कोई भी संदिग्ध हो तो कस्टमर केयर में जरूर बात करें।

ये भी पढ़ें

IGI एयरपोर्ट: एक छोटे से कदम से बचेंगे 180 करोड़ रुपए, जानिए दिल्ली एयरपोर्ट पर क्या है बदलाव

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *