Breaking
Fri. Mar 1st, 2024


सोशल मीडिया पर आक्रोश: मुंबई में रहने वाले एक स्पेशलिस्ट को ऑनलाइन खाना ऑर्डर करने पर निराशा हाथ लगी। उन्होंने मुंबई के 152 साल पुराने मशहूर कैफे से खाना ऑफलाइन प्लेटफॉर्म स्विगी (स्विगी) के जरिए ऑर्डर किया था। उसे अपने अभिलेख के भीतरी औषधि भी मिली। इसके बाद उन्होंने इसकी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर कर आकलन किया। उसने कहा कि मुझसे इस क्रिसमस भगवान की आशा नहीं थी।

स्विगी ने तुरंत इस पोस्ट का जवाब दिया

इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर कई लोगों ने शेयर किया है. साथ ही रोचक टिप्पणी भी. इसके बाद स्विगी ने तुरंत इस पोस्ट का जवाब दिया। उन्होंने लिखा कि आपका संदेश हमें प्राप्त हो गया है। हम इस बारे में जांच कर रहे हैं. कंपनी के प्रतिनिधि ने भी इस पोस्ट में लिखा कि हम अपने सहयोगी रेस्तरां से बेहतर की उम्मीद करते हैं। हमें थोड़ा समय दें ताकि इस मामले में पूरी जानकारी मिल सके।

क्रमांक में दवा का पैकेट रखा हुआ था

मुंबई के रहने वाले शेफ़ रिवेरा पुरी ने मुंबई के मशहूर लियोपोल्ड कैफे से मिस्त्री चिकन का ऑर्डर दिया था। जब उन्होंने यह आदेश खोला तो उसमें दवा की एक गोली का पैकेट निकला। इसके बाद उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर फूड स्टूडियो प्लेटफॉर्म स्विगी को टैग करते हुए पोस्ट किया कि मुझे लियोपोल्ड कोलाबा से सरप्राइज क्रिसमस गिफ्ट मिला है। इसमें आधी पक्की हुई दवा भी दी गई है।

सोशल मीडिया पर कमेंट्स की बाढ़

इसके बाद सोशल मीडिया पर कमेंट्स की बाढ़ आ गई। लोगों ने लिखा कि स्विगी ने तुम्हारी आधी पक्की हुई दवा खरीदी। कृपया रेस्तरां से कहिए कि महान से महानतम। एक अन्य संगीतकार ने लिखा कि उन्हें पता था कि आपको दवा की जरूरत के बाद यह खाना खाना पड़ेगा। इसलिए खाना और सेहत का सबसे अच्छा तरीका ये दवा भी साथ में मिलती है। स्विगी की टीम हमेशा रेडी के लिए स्टॉक में रहती है।

स्विगी को दोष न दें की अपील भी की

हालाँकि, कुछ राक्षसों ने स्विगी को दोषी ठहराते हुए एक अपील की जिसमें लिखा था कि मैसेंजर को गोली नहीं मारी गई है। खाना तो रेस्टोरेंट में बनता है। आप क्या चाहते हैं कि स्विगी वाले हर सुपरमार्केट में इसकी जांच हो। एक अन्य ने लियोपोल्ड कैफे की गिरती गुणवत्ता को दोषी ठहराया है।

1871 में लियोपोल्ड कैफे खोला गया

लियोपोल्ड कैफे मुंबई का सबसे पुराना रेस्तरां से एक है। इसे 1871 में ईरानी लोगों ने खोला था। यह विदेशी पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। मुंबई में हुए 26/11 हमलों का भी ये गवाह बना था. विज्ञान ने इस पर भी घटक सारगर्भित था।

ये भी पढ़ें

सचिन तेंदुलकर निवेश: सचिन तेंदुलकर का एक और कंपनी में निवेश, अब आ रही है कमाई का जबरदस्त मौका



Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *