Breaking
Mon. Feb 26th, 2024


भारत आर्थिक महाशक्ति: इस सदी के अंत तक भारत दुनिया की सबसे बड़ी आर्थिक महाशक्ति बनेगी। भारत का सिद्धांत चीन के सिद्धांत से 90 प्रतिशत बड़ा और अमेरिका के सिद्धांत से 30 प्रतिशत बड़ा होगा। सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च (सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च) ने अपनी लेटेस्ट वर्ल्ड इकोनॉमिक लीग टेबल रिपोर्ट (वर्ल्ड इकोनॉमिक लीग टेबल रिपोर्ट) में ये बातें कही हैं।

बिजनेस स्टैंडर्ड के मानकों से आई इस रिपोर्ट के अनुसार सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च ने कहा कि 2024 से लेकर साल 2028 तक भारत औसत 6.5 फीसदी के दर से लगातार आर्थिक विकास में गिरावट के बाद 2032 तक भारत जापान और जर्मनी को पीछे छोड़ देगा। बड़ी अर्थव्यवस्था होगी. सीआईबीआर (सीईबीआर) के मुताबिक, 2080 के दशक के बाद भारत, चीन और अमेरिका को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की सबसे बड़ी आर्थिक महाशक्ति बन जाएगी।

सीआईबीआर का कहना है कि भारत के विशाल और युवा जनसंख्या, तेजी से बढ़ती मध्यम वर्ग, वैश्विक आर्थिक एकीकरण और वैश्विक आर्थिक एकीकरण को गति देने में बड़ा योगदान दिया गया। अध्ययन में कहा गया है कि, भारत को गरीबी में कमी, बेरोजगारी, मानव कैपिटल, हिन्दोस्तान के साथ पर्यावरण से जुड़ी कहानियों का समाधान मिलेगा।

इससे पहले जुलाई 2023 में ग्लोबल इवेस्टमेंट बैंक गोल्डमैन सैक्स ने कहा था कि भारत 2075 तक दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था ने जापान और जर्मनी की अर्थव्यवस्था को काफी पीछे छोड़ दिया है। पर वो अमेरिकी अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा दे सकते हैं चीन के बाद दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत की होगी।

गोल्डमैन सैक्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 2075 तक चीन 57 ट्रिलियन डॉलर के साथ दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी तो दूसरे स्थान पर 52.5 ट्रिलियन डॉलर के साथ भारत दूसरे स्थान पर होगा। अमेरिकी अर्थव्यवस्था 51.5 ट्रिलियन डॉलर के आकार के साथ तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी।

ये भी पढ़ें

भारत चावल: सिर्फ 25 किलो किलो चावल चावल सरकार, आटा और दाल के बाद आ रहा है भारत चावल

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *