Breaking
Tue. Apr 16th, 2024


महिलाओं द्वारा आर्थिक निर्णय: महिलाओं की आर्थिक आजादी की बात हमेशा बनी रहती है। सरकार भी उनके लिए अलग-अलग प्रकार की योजनाएं लाती है ताकि वह अपने खाते से वित्तीय निर्णय ले सकें। मगर, हाल ही में आई एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि महिलाओं को आर्थिक आजादी दिलाने में पुरुषों की तुलना में सबसे ज्यादा कमाना है। साथ ही आपकी आय और समृद्धि भी इसमें बड़ी भूमिका निभाती है। पूरी तरह से वित्तीय निर्णय लेने वाली महिलाएं 40 लाख रुपये सालाना से ज्यादा कमा रही हैं। साथ ही दस्तावेज़ में भी उनकी संख्या बहुत कम है।

आर्थिक स्वतंत्रता हासिल करने के लिए उम्र भी बड़ी पैमाना

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट, डीबीएस (डीबीएस) और क्रिसिल (क्रिसिल) द्वारा किए गए सर्वेक्षण के कर्मचारियों के अनुसार, महिलाओं को 10 लाख रुपये की नौकरी से पूरी तरह से आर्थिक स्वतंत्रता नहीं मिल रही है। उन्हें इसके लिए कहीं भी बड़ी नकद कमानी मिल रही है। उनके लिए यह पात्र 40 लाख रुपये तक पहुंचने वाला है। साथ ही देश में आर्थिक स्वतंत्रता हासिल करने वाली महिला की उम्र 45 साल से भी ज्यादा है। इसके अलावा उनके शहर का भी इसमें बड़ा प्रभाव है।

भारतीय वर्कशॉप में महिलाओं की संख्या सिर्फ 37 फीसदी

डीबीएस और क्रिसिल के सर्वे के मुताबिक, 10 लाख से ऊपर की 47 फीसदी महिलाओं ने बताया कि वह वित्तीय निर्णय ले कर बेरोजगार हैं। यह श्रेणी टियर-2 शहरों में रहने वाली महिलाओं के लिए मात्र 41 प्रतिशत ही है। हालांकि, जो महिलाएं 40 लाख रुपये सालाना से ज्यादा कमा रही हैं, उनमें से 65 प्रतिशत अपने वित्तीय निर्णय खुद ही ले लेती हैं। सर्वे में यह भी पता चला कि भारतीय वर्कशॉप में महिलाओं की संख्या महज 37 फीसदी है। महिलाओं और पुरुषों का वेतन भी अलग-अलग है। यह अंतर्विरोध काम नहीं हो रहा है।

चेन्नई में सबसे ज्यादा महिलाएं अपना आर्थिक फैसला लेती हैं

सर्वे में एक और दावा किया गया है कि अगर महिला रिचर्स से जुड़ी है तो उसे अपने वित्तीय निर्णय लेने में बहुत आसानी होती है। इसके अनुसार, 41 से 50 लाख रुपये की संपत्ति वाली और समृद्ध परिवार से आने वाली 58 प्रतिशत महिलाएं अपनी आर्थिक निर्णय खुद करती हैं। यही पात्र गैर समृद्ध परिवार से आने वाली महिलाओं में सिर्फ 38 फीसदी रहत है। आंकड़ों के मुताबिक, चेन्नई में सबसे ज्यादा 72 फीसदी महिलाएं आर्थिक फैसला खुद ले रही हैं। इसके बाद 65 फीसदी के साथ दिल्ली का नंबर है.

ये भी पढ़ें

बजट 2024: ये थे वो 5 बजट वाले देशों को बजट, एक फरवरी को आएगा अंतरिम बजट

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *