Breaking
Fri. Mar 1st, 2024


कृषि भूमि: भारत की जनसंख्या बड़ी चुनौती है। भारत 142 करोड़ से अधिक जनसंख्या वाला देश है। इसी साल अप्रैल में चीन को पीछे छोड़ दिया गया था. इतनी बड़ी आबादी का बजट खेती के लिए अहम भूमिका निभाती है। भारत को कृषि प्रधान देश कहा जाता है। हालांकि, खेती करने में भारत टॉप-5 देशों में भी शामिल नहीं है. दुनिया में सबसे ज्यादा खेती वाली कंपनियां होती हैं. इसके बाद टॉप-5 में अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील और रूस का नंबर आता है।

कई देशों में खेती योग्य भूमि विकसित की गई

हाल ही में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 60 साल (1961-2021) के दौरान दुनिया के कई देशों में खेती योग्य भूमि में उभरती हुई देखी गई है। भारत में 1961 में कृषि योग्य भूमि लगभग 58.8 प्रतिशत थी, जो अब 60 प्रतिशत के आंकड़े पार कर चुकी है। इसके अलावा ब्राज़ीलियाई और चीन ने भी इस मामले में अच्छे हाथी बनाए रखे हैं। चीन में यह आंकड़ा 55.5 फीसदी और ब्राजील में 28 फीसदी हो गया है। दूसरी तरफ एरिजोना, अमेरिका और जापान में एग्रीकल्चर लैंड का काम हो गया है। चीन में लगभग 52 लाख वर्ग किलोमीटर जमीन पर खेती की जा रही है। विश्व में कुल 4.78 करोड़ वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में खेती हो रही है।

अफ़्रीका के छोटे देश भी कर रहे कमाल

अफ्रीका महाद्वीप के बुरुंडी क्षेत्र में भी खेती कमाल की हो रही है। वह अपने कुल वृत्तचित्र के 81.9 भागों पर खेती करता है। इस मामले में रवांडा, सऊदी अरब, उरुग्वे और लेसोथो भी बेहतरीन काम कर रहे हैं। बांग्लादेश में कृषि योग्य भूमि लगभग 58 प्रतिशत है।

ग्रीनलैंड और वेटिकन सिटी में खेती योग्य भूमि ही नहीं है

ग्रीनलैंड का ऐसा सबसे बड़ा देश है, जहां खेती लायक जमीन ही नहीं है। साथ ही इस मामले में वेटिकन सिटी सबसे छोटा देश है। संयुक्त राष्ट्र की संस्था फ़ूड एंड एग्रीकल्चर आर्गेनाइजेशन (एफएओ) के अनुसार, 1961 से लेकर अब तक कृषि योग्य भूमि लगभग एक समान कम हो गई है। ग्लोबल क्लाइमेट कंपनी की फर्म से जंगल उगना, मिट्टी का कटाव और रेगिस्तान की खेती की जमीन खायी जा रही है।

दुनिया के 10 सबसे ताकतवर देश

कृषि योग्य भूमि का हिसाब-किताब दुनिया के टॉप-10 देशों में भारत में शामिल है। इसके अलावा अमेरिका, चीन, रूस, ब्राजील, कनाडा, नाइजीरिया, यूक्रेन, अर्जेंटीना और ऑस्ट्रेलिया भी इस सूची में हैं।

इलेक्शन का फैंटेसी गेम, जीतें 10,000 तक के गैजेट्स 🏆
*नियम एवं शर्तें लागू
https://bit.ly/ekbabplbanhin

ये भी पढ़ें

बचत युक्तियाँ: कैसे बचा सकते हैं एक करोड़ रुपये, समझें आसान गणित

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *