Breaking
Sun. Jun 16th, 2024

[ad_1]

भारतीय स्टार्टअप: कलाकारों में अपने मुख्यालय कंपनी लिमिटेड का वहां से अनुबंध अब समाप्त हो चुका है। अब ये कारीगर अपने प्रमुख क्वाटर भारत वापस आने की तैयारी में हैं। उन्हें अब विदेश से कामकैमरिलीज़ कीपर नज़र नहीं आ रही है। जानकारी के अनुसार, पाइन लैब्स, फ़्लाइट और मीशो वो बड़े नाम हैं, वैयक्तिक पत्रिका से मोहभंग हो गया है। ये जल्द ही भारत से ही अपना ऑपरेशन शुरू हुआ।

सिंगापुर और अमेरिका में हेडक्वार्टर हैं

पाइन लैब्स और फ़्लाइट का मुख्यालय सिंगापुर और ई कॉमर्स कंपनी मीशो का मुख्यालय अमेरिका में है। टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, पाइन लैब्स भारत आने के लिए अपने बोर्ड की मंजूरी का इंतजार कर रही है। पीओएस पुस्तकें (पीओएस उपकरण) मेड वाली पाइन लैब्स 2021 से ही आई लैब्स की तैयारी कर रही है। मगर, बाजार में चल रही उठापटक ने उसे अपना प्लान आगे बढ़ाने पर मजबूर कर दिया था। बोर्ड की मंजूरी बैठक के बाद कंपनी अपनी मूल फर्म को भारत ले जाएगी। पाइन लैब्स का घर वापसी इसी साल हो सकता है। हालाँकि, यह अनुमोदित अनुमोदित पर स्थिर रहेगा। अधिकारियों के मुताबिक, फ्लाइट भी ऐसी ही तैयारी में है और जल्द ही अपना आई बिजनेस भी बाजार में उतारेगी।

आसान टैक्स क्रेडिट और विदेशी फंडिंग के लिए विदेश गए थे

इस बीच की रिपोर्ट के मुताबिक, फ्लाइट भी अपनी होल्डिंग कंपनी के लिए भारत आकर तैयार हो चुकी है। साथ ही कंपनी ने ओवरसीज़ के माध्यम से अपनी फर्म के लिए सिंगापुर स्थित कंपनी का विकल्प भी रखा है। उधर, मीशो भी अपनी अमेरिका स्थित कंपनी को भारत में स्थापित करने की तलाश में है। हालाँकि, मीशो ने अभी तक इस पर अंतिम निर्णय नहीं लिया है। भारत वापस लौटने के पीछे कई कारण हैं। इन टैक्सेटरों ने भारत से बाहर अपने मुख्यालय बनाए हुए थे। पिछले कुछ वर्षों के दौरान केंद्र सरकार ने कॉन्स्टेंटिस्टों में बदलाव किया है। ऐसा माना जा रहा है कि 2024 में सरकारी कंपनियों के वापस भारत लौटने पर टैक्स में छूट मिल सकती है। इस कदम से घर वापसी के लिए बड़ा प्रोत्साहन मिल सकता है।

घर वापसी के पीछे सबसे बड़ा कारण आई स्लीपर

अगर सरकार टैक्स कर्मचारियों को और आसान ढांचा देती है तो ज्यादातर से ज्यादा कंपनी विदेशी मोह भारत में अपना मुख्यालय बनाएगी। वॉलमार्ट ने फोनपे को सिंगापुर से भारत लाने के लिए करीब 90 करोड़ डॉलर खर्च किए थे। भारत वापसी के लिए कई पर्यटक आई बारातें तय कर रही हैं। फ्लाइट की घर वापसी के पीछे भी सबसे बड़ा कारण आई ड्रॉप ही है।

फिनटेक स्टार्टअप भी ऑनलाइन उपलब्ध हैं

जानकारी के अनुसार, फिनटेक बिल्डर्स भी घरवापसी के उद्यमियों में शामिल हुए हैं। ग्रो (ग्रो) ने नेशनल कंपनीज लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) के साथ मिलकर अमेरिका से भारत के लिए नामांकन दाखिल किया है। रेज़र्पे (रेज़ोर्पे) भी ऐसी ही एक इंटरैक्टिव कंपनी है। पाइन लैब्स ने भी कुछ महीनों में यह प्रक्रिया पूरी तरह से कर दी। भारत के लिए अनोखा नजारा बनाया गया है। भारत सरकार भी इन संस्थाओं के वापस आने से भारतीय इकोनोमी को होने वाले लाभ पर ध्यान केंद्रित करेगी।

ये भी पढ़ें

पेंशन योजना: एनपीएस और अटल पेंशन योजना से जुड़े 97 लाख नए लोग, 7 करोड़ से ज्यादा सब्सक्राइबर

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *