Breaking
Tue. Apr 16th, 2024


बीएसई बाजार पूंजीकरण: रविवार 3 दिसंबर 2023 को चार बड़े राज्यों के चुनावों के नतीजों की घोषणा की गई जिसमें तीन में बीजेपी को बड़ी जीत हासिल हुई। और उसके अगले दो दिनों में शेयर बाजार में जो तेजी आई है वो ऐतिहासिक है। दो दिनों में 1800 और प्लास्टर में करीब 600 प्वाइंट की तेजी से बिक्री हुई है। और अगर शुक्रवार को डिजिटल पोल वाले दिन भी बाजार में आई रैपिड को जोड़ लें तो 2300 और इंजीनियर में 750 पॉइंट का उछाल आ चुका है। इस सुपरमार्केट में युवाओं की संपत्ति में भी हलचल देखने को मिलती है।

3 सत्र में 11 लाख करोड़ की कमाई

पिछले सप्ताह ही लिस्टेड यूनाइटेड मार्केट कैप ऐतिहासिक 4 ट्रिलियन डॉलर को पार कर गया था। और पिछले तीन ट्रेडिंग सत्रों में सूचीबद्ध कंपनियों के मार्केट कैप में 11 लाख करोड़ रुपये का उछाल आया है। 30 नवंबर 2023 को लिस्टेड सोसायटी की मार्केट कैप 335.58 लाख करोड़ रुपये रही। जो अगले तीन ट्रेडिंग सत्र में 346.51 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। यानी सिर्फ तीन सत्र में ही भारतीय शेयर बाजार की मार्केट कैप में 10.93 लाख करोड़ रुपये का बकाया चुकाया गया है.

8 महीने में 90 लाख करोड़ की शानदार संपत्ति

बीजेपी को चुनाव में शानदार जीत हासिल हुई है, 2024 में भी केंद्र में मोदी सरकार की वापसी हो सकती है, जिससे बाजार में इस तेजी से दर्शक मिल रहे हैं। इस साल मार्च महीने से शेयर बाजार में लुभावने फुलके उठापटक को छोड़ दिया तो अगले साल तेजी से बनी है चुनावजारी रहने की संभावना स्पष्ट रूप से जारी है। 20 मार्च 2023 को लिस्टेड एसोसिएट्स का मार्केट कैप शेयर 255.64 लाख करोड़ रुपये था। लेकिन पिछले 8 महीनों के दौरान विदेशी और देशी अध्येताओं के दम पर सूचीबद्ध कंपनियों के बाजारों में इस हिस्सेदारी का भुगतान किया गया है। पिछले 8 महीने में भारतीय शेयर बाजार में निवेश करने वाले निवेशकों की संपत्ति में 90 लाख करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है।

ये भी पढ़ें

मूडीज ने चीन को किया डाउनग्रेड: मूडीज ने चीन को दिया झटका, घटा दी क्रेडिट रेटिंग; जानें इसके विपरीत

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *