Breaking
Sun. Jun 16th, 2024

[ad_1]

भगवंत मान सरकार: कई समय से वित्तीय संकट का सामना कर रही पंजाब स्टेट पावर रेलवे लिमिटेड (पीएसपीसीएल) के लिए अच्छी खबर है। ग्लोबल की वित्तीय समस्या में गजब का सुधार देखने को मिला है। स्थायी वित्त वर्ष 2023-24 अप्रैल से सितंबर की अवधि के दौरान पंजाब स्टेट पावर रेलवे लिमिटेड को 564.76 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। जबकि इसी अवधि के दौरान पीएसपीसीएल को 1880.25 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था।

मुख्यमंत्री भगवन्त मान आम आदमी पार्टी की सरकार के नेतृत्व वाली कंपनी ने सपोर्ट के दम पर पीएसपीसीएल का वादा करने में मदद की है। पंजाब स्टेट पावर रेलवे लिमिटेड को समय पर बिजली की छूट का भुगतान सरकार दे रही है। सरकार के इस फैसले में 12,342 करोड़ रुपये का कैश फ्लो देखने को मिला, जिससे पीएसपीसीएल की वित्तीय स्थिति में सुधार हुआ। पंजाब सरकार के इस फैसले के मुताबिक पंजाब स्टेट पावर प्लांट को 564.76 करोड़ रुपये का लाभ हुआ है, वहीं रेवेन्यू में भी उछाल देखने को मिला है।

पंजाब के प्रोजेक्टों को सस्ता और 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने के लिए पंजाब स्टेट पावर रेलवे ने बिजली खरीद के खर्च को लेकर कई फैसले लिए हैं। इन कदमों से ही बिजली के बढ़ते खर्च का असर कम होने के साथ-साथ निगम की वित्तीय स्थिति को भी ठीक होने में मदद मिली है। पीएसपीसीएल ने अपने हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट से उत्पादन का दायरा बढ़ाया है, जिससे बिजली उत्पादन 21 फीसदी महंगा हो गया है। माइक्रोवेव ने अपने इलेक्ट्रिक इलेक्ट्रिक प्लांट से 21 प्रतिशत अधिक बिजली का उत्पादन किया है। बीबीबीएम प्लांट से 14 फीसदी और दूसरे राज्यों में 13 फीसदी बिजली उत्पादन बढ़ा है।

पंजाब स्टेट पावर प्रॉडक्शन अप्रैल से सितंबर की अवधि के दौरान शेयर बाजार में शॉर्ट टर्म एग्रीमेंट और ट्रेडिंग के जरिए बिजली खरीद की लागत 48 फीसदी तक कम करने में मदद मिली है। बाजार में पीएसपीसीएल ने 924 करोड़ रुपये की बिजली कमाई में सफलता हासिल की, जो साल अप्रैल से सितंबर 2022 की अवधि के दौरान 293 करोड़ रुपये रही।

ये भी पढ़ें

2000 रुपए के नोट: सात साल में 2000 के नोट वापस लिए गए, 17,688 करोड़ रुपए खर्च हुए

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *