Breaking
Fri. Jun 21st, 2024

[ad_1]

अलविदा 2023: साल 2023 भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए तो बहुत अच्छा चल रहा है। मगर, अमेरिका और यूरोप में दुर्भाग्य का बुरा असर दिखा। इसकी कुछ बड़ी नामचीन कंपनियों का दबाव सहन नहीं हुआ और आखिरकार उन्होंने इस साल अपना दरवाजा बंद कर दिया। वैश्विक अस्थिरता का सबसे बुरा असर अमेरिकी कंपनियों पर पड़ा। वहां कई दिवालिया घोषित हो गए। भारत में उनके सहयोगी दल पर भी बुरा प्रभाव पड़ा। आइए इस मुलाकात साल में उन सहयोगियों और गरीबों पर एक नजर डालते हैं। अलग-अलग मीडिया के अनुसार, अमेरिका में 2020 के बाद सबसे बड़ी वेबसाइट ने दिवालियापन के लिए आवेदन किया। आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 12 महीनों में दिवालिया होने वाले की संख्या में 30 फीसदी का उछाल आया।

वर्कशॉप नहीं कर पाई वर्कशॉप

ऑफिस को ऑफिस स्पेस ऑफर करने वाली दिग्गज कंपनी वीवर्क (वेवर्क) ने इस साल अपनी कंपनी को कोविड-19 के दौरान लॉकडाउन से भयंकर नुकसान पहुंचाया था। प्रयासों के होने के बावजूद इस चिन्ह को पुनः आरंभ करने में वीवर्क जारी रहा और नवंबर में अंततः उसने रद्द घोषित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी। एडम न्यूमैन (Adam Neumann) ने 2010 में अपनी कंपनी वीवर्क की शुरुआत 47 अरब डॉलर की मार्केट वैल्यू के साथ दुनिया की सबसे मूल्यवान मूर्ति बनी थी। हालाँकि, इसकी भारतीय कंपनी ने आशा व्यक्त की है कि उस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। इसके अलावा बाय बाय नाऊ पे लेटर कंपनी जेस्टमनी (जेस्टमनी) का भारत में आखिरी दिन 31 दिसंबर होगा।

चीन की सबसे बड़ी दौलत कंपनी डूब गई

एवरग्रांड (एवरग्रांडे) कभी चीन की टुकड़ियों का एक प्रतीक था। मगर, चीन के इस दूसरे सबसे बड़े चमत्कारी अनाज को अब चीन के पतन का प्रतीक माना जाता है। कंपनी ने सेक्टर सेक्टर के लिए नए नियम 2020 लागू किए, जिससे उसके बचे हुए नकदी संकट में फंस गई और कर्ज के जाल में फंसकर बर्बाद हो गई। निवेश कंपनी पर 300 अरब डॉलर से ऊपर का कर्ज़ है। प्रॉपर्टी सेक्टर कंपनी का एक चौथाई हिस्सा है। इसी साल अगस्त में आखिरकार कंपनी ने न्यूयॉर्क में हथियार डालने की प्रक्रिया शुरू कर दी।

बेड बाथ एंड बायोड का हुआ बुरा अंत

अमेरिका के दिग्गज इलेक्ट्रानिक बेड बाथ एंड बियोड (बेड, बाथ एंड बियॉन्ड) का इस साल में अंत हो गया। करीब 50 साल पुरानी यह कंपनी अमेरिका में बेहद लोकप्रिय थी। मगर, इसी साल अप्रैल में वह पदयात्रा के लिए दिवालिया हो रही थी। कंपनी ने अपना हस्ताक्षर जनवरी, 2023 में नीचे दिया है। उन्होंने बताया कि कंपनी के पास अब कैश नहीं बचा है। इस जानकारी के बाहर आने के बाद कंपनी के शेयर खराब तरह से खराब हो गए। बेड बाथ और बायोड के इस हश्र के लिए ऑनलाइन शॉपिंग को भी जिम्मेदार ठहराया गया।

बैंकों ने झेला 2008 जैसा कि मोन्ट

यह वर्ष 2008 में वित्तीय संकट की तरह के पदों के लिए बहुत बुरा साबित हुआ। अमेरिकी नेटवर्क सिस्टम में मची उछाल खंड का असर सबसे पहले स्विट्जरलैंड के प्रसिद्ध क्रेडिट सुइस बैंक पर पड़ा। यह बैंक बॅक में फंस गया था. अमेरिका में भी लोग बैंकों से अपना पैसा निकाल कर अपना एसवीबी रिपब्लिक ग्रुप (एसवीबी फाइनेंशियल ग्रुप) पर बहुत बुरा असर डाला। इसके सहायक सिलिकॉन वैली बैंक (सिलिकॉन वैली बैंक) ने दिवालिया होने की अपील कर दी। इसके बाद एसवीबी का भी पतन हो गया।

2024 में संकट के बादल छा सकते हैं

बाजार विशेषज्ञ ने संभावना जताई है कि वैश्विक निराशा की आपदा के ये बादल नए साल 2024 में नहीं आ सकते हैं। अमेरिकी रिजर्व बैंक के शेयरों में स्थिरता और स्थिरता का मौका नहीं मिलेगा।

ये भी पढ़ें

ईयर एंडर 2023: स्टाइप स्ट्रीट पर राही आई सिपालों की भरमार, 47 मेनबोर्ड और 141 एसएमई आई स्लीपर पर गए लाभ

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *