Breaking
Fri. May 24th, 2024

[ad_1]

पेटीएम: भारतीय रिजर्व बैंक ने पर्सनल लोन के नियम में पेटीएम (पेटीएम) के बाद छोटे पर्सनल लोन को लेकर बड़ा फैसला लिया है। अब 50,000 रुपये से कम नकद के पर्सनल लोन की संख्या में कटौती की जा रही है। कंपनी ने रविवार को इसकी जानकारी दी है। दस्तावेजों में कहा गया है कि सर्टिफिकेट के बाद छोटे लोन की संख्या में 50 प्रतिशत तक की बड़ी कटौती हो सकती है।

कंपनी पर नहीं कोई बड़ा असर-Paytm

इस फैसले में कहा गया है कि कंपनी की कमाई और गरीबी पर ज्यादा असर नहीं पड़ता है क्योंकि 50,000 से ज्यादा राशि के लोन में बहुत ज्यादा छुट्टी है। हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक ने पर्सनल लोन से जुड़े शेयरों पर रोक लगा दी है। आरबीआई ने छोटे लोन के रिस्क वेट को 25 प्रतिशत तक का ब्रेक दिया और यह 100 प्रतिशत से बढ़कर 125 प्रतिशत हो गया। बैंक के इस फैसले के बाद पर्सनल लोन महंगा हो जाएगा और निजी लोन की संख्या में कटौती करने के लिए मजबूर हो गए हैं।

पहचान के शेयर हुए धड़ाम

छोटी राशि के अनसिकॉर्ड पर्सनल लोन की संख्या में कटौती के फैसले के बाद गुरुवार को ही शेयर बाजार में कंपनी के शेयर धड़ाम हो गए। डिजिटल पेमेंट फर्म की मूल कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस के शेयर 7 दिसंबर से 20 प्रतिशत तक टूट गए। इसके बाद 9.23 मिनट पर इस पर लोअर सर्किट लग गया।

कंपनी का मुनाफ़ा भी असरदार

ब्रोकरेज फर्म जेफरीज (जेफरीज) ने कहा कि आरबीआई के छोटे पर्सनल लोन के प्रोजेक्ट में से एक के बाद एक ऑफर से अभी खरीदें बाद में भुगतान करें बिजनेस पर सीधे असर पड़ने वाला है। कंपनी द्वारा जारी किए गए जाने वाले लोन में से छोटे पर्सनल लोन का हिस्सा 55 प्रतिशत है। इसमें कंपनी ने 3 से 4 महीने में 50 फीसदी तक की हिस्सेदारी ली है। जेफ़्रीज़ ने कंपनी के राजस्व के अनुमान में भी 3 से 10 प्रतिशत की कटौती की है।

ये भी पढ़ें-

ऑनलाइन शॉपिंग: त्योहारी सीजन में उमड़ा क्रेडिट कार्ड! ऑफ़लाइन बिज़नेस ने सबसे पीछे छोड़ दिया

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *