Breaking
Mon. Feb 26th, 2024


फिनटेक फिल्मांकन एक बार फिर से गलत आरोपों पर चर्चा में है। ऐसी खबरें आ रही हैं कि तानाशाह ने एक बार फिर अपने कर्मचारियों को कंपनी से बाहर करने का फैसला लिया है। खबरों के मुताबिक, दशक ने इस ड्रॉ में अपने कुल कर्मचारियों के करीब 10 फीसदी हिस्से की छुट्टी कर दी है। संस्था की मूल कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस ने इस बार 1000 से अधिक कर्मचारियों की खींची है। ईटी की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पिछले कुछ महीने में ये ड्रॉ हुआ था और इसमें अलग-अलग यूनिट के कर्मचारियों को शामिल किया गया था। बताया जा रहा है कि नियति ने यह ड्रॉ अपनी कास्ट कम करने के लिए और अपने अलग-अलग तरह के नेपोलियन को नई लाइब्रेरी से शुरू करने के लिए तैयार किया है।

भारतीय फिल्मों की सबसे बड़ी ड्रैक

इस ड्रॉ में उनके कुल वर्कफोर्स के करीब 10 प्रतिशत हिस्से प्रभावित हुए हैं। इसे भी अब तक की सबसे बड़ी भारतीय ड्रॉ में से एक माना जा रहा है। 2023 में आरोपियों की दलीलें भी ठीक साबित नहीं हुईं। इस साल भारतीय ट्रेलर ने पहली बार तीन तिमाहियों में 28 हजार से अधिक कर्मचारियों की खींची की। इससे पहले साल 2022 में 20 हजार से ज्यादा की कमाई की थी और 2021 में 4 हजार से ज्यादा कर्मचारियों की कमाई की थी। फिनटेक सेक्टर में देखें तो जेस्टमनी इस महीने के अंत तक बंद होने वाली है। ले रहा है. इससे पहले रिज़र्व बैंक ने एनसिकॉर्ड लोन पर ऋणी सख्तियां की, जिसका असर बांड पर भी हुआ। फिल्म के एक्शन के बाद पिशाच ने छोटे टिकट कंज्यूमर लेंडिंग और बाय नाउ, पे लेटर बिजनेस को बंद करने का फैसला लिया। ऐसा बताया जा रहा है कि ताजी ड्रॉ में इन दोनों खंडों के कर्मचारी सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं।

डबाव में स्टॉक का प्रदर्शन

शेयर बाजार में भी लगातार कंपनी संघर्ष कर रही है। पिछले एक महीने के दौरान नोटबंदी के स्टॉक में करीब 28 फीसदी की गिरावट आई है। 6 महीने में इसका भाव 23 फीसदी से ज्यादा नीचे है। दिसंबर महीने के शुरुआती दिनों में तो शेयर स्टॉक को 20 फीसदी के लोअर सर्किट का भी सामना करना पड़ता है। अब ड्रॉ की खबरें सामने आने के बाद स्टॉक पर और बुरा प्रभाव पड़ने का खतरा है।

ये भी पढ़ें: आर्टिफिशियल क्रिएटिविटी से जुड़े घोटाले में जानिए क्या है मेटल वॉयस फोर्ड और कैसे करें खुद का बचाव

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *