Breaking
Tue. Apr 16th, 2024


सेबी: स्टॉक मार्केट रेगुलेटर सेबी ने भी आर्टिफिशियल एजेंसी (एआई) का इस्तेमाल शुरू कर दिया है। सेबी के सदस्य कमलेश चंद्र वार्ष्णेय ने शनिवार को बताया कि मार्केट रेगुलेटर जांच के लिए होटल को प्रयोग में ला रही है। उन्होंने कैपिटल मार्केट में गलत तरीके से लागू करने के प्रति चेतावनी दी। साथ ही ब्रोकर्स को भी ऐसी कोशिशों से सावधान रहने की सलाह दी गई है।

पुराने में बदलाव नहीं होगा

आईडियाज एंड एप्रूवमेंट बोर्ड ऑफ इंडिया ((सेबी)) ने जांच में तेजी लाने के अलावा कई क्षेत्र में आर्टिस्टिक साहाय्य का प्रयोग किया है। कमलेश चंद्र वार्ष्णेय ने कहा कि विभिन्न नमूनों को प्रौद्योगिकी में हो रहे बदलावों पर नजर रखनी चाहिए। उन्होंने नेशनल रिव्यूज मेंबर्स ऑफ इंडिया (एएनएमआई) के कार्यक्रम में भाग लेते हुए कहा कि सेबी के लिए साझेदारी और प्रगति से मजबूत लाभ सबसे जरूरी है। शेयर बाजार में कानून का पालन करना ही कमाल साबित होगा। इसका उल्लंघन करने से आखिर क्या होगा.

ब्रोकर्स के साथ काम तो बहुत आसानी से होगा

उन्होंने बताया कि सेबी स्टॉक मार्केट में लोगों को अनारक्षित करने वालों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। सेबी के सदस्य मोनोआली वार्ष्णेय ने ब्रोकरों से अपील की कि वो चौकन्ने रहें और इस तरह की कोशिशों को रोकें। सेबी ने लगातार ऐसी कोशिश करने वालों पर कार्रवाई की है। इनमें फ्रंट रनिंग भी शामिल है। हमें युवाओं का भरोसा जीतना होगा। इसके बिना हर प्रयास किया जाएगा. इसमें ब्रोकर्स का बहुत अहम रोल है। अगर वो हमारा साथ दे तो बहुत जल्दी इस पर रोक लगेगी। इसमें कुछ ब्रोकर्स शामिल हो सकते हैं। हम उन पर सख्त कार्रवाई करने से पीछे नहीं हटेंगे।

जोर दे रही सेबी पर प्रौद्योगिकी का प्रयोग

पिछले साल सेबी ने बताया था कि वह टेक्नोलॉजी का जोर-शोर से इस्तेमाल कर रही है। इसके लिए जिओटैगिंग भी शुरू की जाएगी। साथ ही डिजिटल आईटी आर्किटेक्चर को भी बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। तकनीक की मदद से जांच में होने वाली कमियां दूर हो जाएं।

ये भी पढ़ें

गौतम अडानी: गौतम अडानी से मिले ग्राहकों के सीईओ, साथ काम करने की चाहत

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *