Breaking
Wed. Jun 19th, 2024

[ad_1]

पुरानी पेंशन योजना: महाराष्ट्र की शिडेन सरकार ने राज्य के सरकारी कर्मचारियों को बड़ी छूट दी है। राज्य के ऐसे सरकारी कर्मचारी नवंबर 2005 के बाद सेवा में शामिल हो गए हैं, वे पुराने पेंशन स्कॉच के विकल्प चुन सकते हैं। महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है.

राज्य के सरकारी कर्मचारी वृद्ध पेंशन बहाली की मांग को लेकर लगातार धरना प्रदर्शन कर रहे थे. वे पुरानी पेंशन पेंशन की मांग के समर्थन में हड़ताल पर भी चले गए। जिसके बाद महाराष्ट्र सरकार ने यह निर्णय लिया कि नवंबर 2005 के बाद जिन सरकारी कर्मचारियों को नियुक्त किया गया था, उनके पास यह विकल्प होगा कि वे पुराने पेंशन स्कॉइल को चयनित करें।

महाराष्ट्र राज्य कर्मचारियों के महासंघ के प्रमुख विश्वास ने कहा, गोवा सरकार के 26,000 कर्मचारियों की फ़ायदेमंदी की बिक्री नवंबर 2005 से पहले हो गई थी, लेकिन इन लोगों का नामांकन पत्र बाद में मिला था। नवंबर 2005 से पहले 9.5 लाख सरकारी कर्मचारियों ने उन्हें अभी भी पुरानी पेंशन पेंशन का लाभ मिलना जारी रखा था। राज्य में 2005 में पुराने पेंशन स्कॉइज़ को बंद कर दिया गया था।

केंद्र सरकार के कर्मचारी भी पुरानी पेंशन राशि को फिर से बहाल करने की मांग कर रहे हैं। पिछले दिनों दिल्ली के नोएडा परिसर में सरकारी कर्मचारियों ने सरकार पर दबाव बढ़ाने के लिए हड़ताल भी की थी। हालाँकि सरकार ने एक जनवरी 2004 को केंद्रीय फिर से कर्मचारियों की नियुक्ति कर दी है, लेकिन सरकार के सामने पुराने पेंशन स्कॉच से बहाली का कोई प्रस्ताव नहीं है।

हालांकि सरकार ने वित्त सचिव की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया है जो राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली के तहत केंद्रीय कर्मचारियों के पेंशन के मुद्दे का अध्ययन कर रही है। ये समिति एनपीएस के स्थिर फ्रेमवर्क और ग्रेजुएट पर गौर कर रही है। साथ ही ये देख रही है कि इसमें किस तरह के बदलाव देखने को मिलते हैं। राजस्थान, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश और झारखंड के बाद महाराष्ट्र में भी पुराने पेंशनों को अपने राज्यों में बहाल किया जाता है।

ये भी पढ़ें

इंडिगो फ्यूल चार्ज में कटौती: प्रतिष्ठित होगी हवाई यात्रा, इंडिगो ने फुल चार्ज के फैसले को वापस ले लिया है

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *