Breaking
Mon. Feb 26th, 2024


बोइंग सुकन्या कार्यक्रम: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (नरेंद्र मोदी) ने शुक्रवार को बेंगलुरु में बोइंग सेंटर (बोइंग सेंटर) का उद्घाटन किया। इसे अमेरिका से बाहर बोइंग का सबसे बड़ा सेंटर बताया जा रहा है। कंपनी ने इस इंजीनियरिंग एवं टेक्नोलॉजी सेंटर को एव सेक्टर में बदलावों के लिए खुद को तैयार रखने के लिए तैयार किया है। यहां पर रिसर्च, रिसर्च, इनोवेशन और डिजायन पर जोर दिया जाएगा। मीट ने कहा कि यह ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर मोदी द वर्ल्ड’ रणनीति का एक हिस्सा है। इस केंद्र से भारत का हुनर ​​दुनिया पर भरोसा और सबसे मजबूत होगा।

भारत में महिला पायलटों की संख्या सबसे ज्यादा

मोदी ने कहा कि भारत में 15 प्रतिशत पायलट महिलाएं हैं। यह वैश्विक औसत का तीन गुना है। बोइंग सुकन्या कार्यक्रम हमारी बेटी के पायलट बनने के सपने को साकार करने में और भरपूर मदद करेगा। बोइंग का यह पैट्रोल एक दिन की दुनिया को भारत में आधुनिक विमान भी देगा। उन्होंने कहा कि कॉलेज शहर नये प्रयोगों और सफलताओं को बढ़ावा दे रहा है। इसी शहर ने दुनिया की तकनीकी डिजाइनों को पूरा करने में मदद दी है।

43 पेंटिंग के चित्र 1600 करोड़ रुपए में तैयार हुए

बोइंग इंडिया इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी सेंटर (बीआईईटीसी) का यह पेट्रोलियम लगभग 43 एकड़ में फैला हुआ है। इस पर कंपनी ने करीब 1600 करोड़ रुपये खर्च किये हैं. यह अमेरिका की बाहरी कंपनी का सबसे बड़ा केंद्र है। यह केंद्र देश में नये कारखाने और निजी एवं सरकारी भागीदारी को बेहतर दिशा में काम करने की दृष्टि से तैयार करता है। यहां से ग्लोबल एयरोस्पेस और डिफेंस प्रोडक्ट्स के लिए अगली पीढ़ी के उत्पाद विकसित किए जा रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, बोइंग के इस पेटी में 3000 से ज्यादा इंजीनियर एक साथ काम कर सकते हैं। इसके अलावा बोइंग को भारतीय सेना के साथ मिलकर भी काम करना होगा। यह डिफेंस सेक्टर में आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत एक अहम निरीक्षण है।

बोइंग सुकन्या कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया

इस मौके पर मोदी ने बोइंग सुकन्या कार्यक्रम (बोइंग सुकन्या प्रोग्राम) का भी उद्घाटन किया। इस एविएशन सेक्टर में देश की बेटियों को अधिक से अधिक जगह मिलें। इसके अंतर्गत बेटियों को विज्ञान, प्रौद्योगिकी, एवं इंजीनियरिंग गणित (STEM) जैसे क्षेत्र में कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया गया। साथ ही एविएशन सेक्टर में बिल्डर के लिए ट्रेनिंग भी मिलेगी। इस मस्जिद पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दरमैया ने कहा कि यह राज्य के लिए सम्मान की बात है। कर्नाटक ने हमेशा देश के तकनीकी विकास में योगदान दिया है।

ये भी पढ़ें

भारत ब्रांड आउटलेट: आप भी बुकमार्क किए गए भारत ब्रांड का लॉन्च, सरकार में फ्रैंचाइज़ी स्पार्कल्स की तैयारी

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *