Breaking
Fri. Mar 1st, 2024


एलआईसी स्टॉक मूल्य: देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी की लीज शेयरधारकों के लिए मंगलवार के मध्य सत्र के लिए बेहद शुभ साबित हुई है। 17 मई 2022 को स्टॉक समीक्षा के बाद 16 जनवरी 2024 को पहली बार एलएलसी का स्टॉक अपने स्तर पर जाने के साथ सफलता की ओर बढ़ रहा है। इतना ही नहीं इंवेस्टमेंट के बाद फर्स्ट स्टैटिस्टिक्स का शेयर 900 रुपये के लेवल पर भी एलएलसी में बिक रहा है। हालाँकि कंपनी ने 949 रुपये के इश्यू प्रोडक्ट्स पर आई सॉलिड पैसिव ऑफर किये थे.

मई 2022 को स्टॉक रिव्यू के बाद लगातार एलआईसी के शेयर में गिरावट देखने को मिली थी। अडानी ग्रुप के खिलाफ हिंडनबर्ग की रिसर्च रिपोर्ट में एलआईसी का स्टॉक सामने आया है, जिसमें उनकी कंपनी के शेयर 44 प्रतिशत से नीचे 530 रुपये के स्तर तक जा पहुंचे थे। लेकिन एलिस्टिक्स के शेयर में एलएलसी के शेयर में 70 फीसदी का उछाल आया और एलआईसी के स्टॉक में 900 रुपये का शेयर पहुंच गया।

एलआईसी के शेयर के चाल पर नजर डालें तो 6 महीने में स्टॉक में 44 फीसदी, एक महीने में 12 फीसदी का उछाल आया है। एलआईसी के शेयर में अगस्त 2023 के बाद बहुमत उछाल आया लोकसभा (लोकसभा) में अविश्वास प्रस्ताव (नो-कॉन्फिडेंस मोशन) पर बढ़ा हुआ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (नरेंद्र मोदी) ने शेयर बाजार के निवेशकों को निवेश का गुरु मंत्र दिया है। मोदी ने लोकसभा में कहा था कि जो लोग सरकारी एजेंसियों को शामिल करते हैं, वे दांव लगाते हैं और आपके निवेश पर जोरदार रिटर्न देते हैं। टैब में मोदी ने कहा कि सरकारी क्षेत्र की बीमा कंपनी एलआईसी के लिए क्या नहीं कहा गया? आज एलएलसी कॉन्स्टेबल मजबूत हो रही है। प्रधानमंत्री ने शेयर बाजार के निवेशकों से कहा कि जिस भी सरकारी कंपनी को शामिल किया जाए, आप उसकी शेयर खरीद लिजी के लिए अच्छा बने रहें।

हिंडनबर्ग रिसर्च रिपोर्ट के सामने आने के बाद अडानी ग्रुप के शेयरों में जब भारी गिरावट का अनुमान जा रहा था तब अडानी ग्रुप की कंपनियों में निवेश को लेकर एलएलसी की भारी आलोचना हो रही थी। अदानी ग्रुप के स्टॉक में एलआईसीटी के निवेश का शेयर 82000 करोड़ रुपये का था, जो करीब 31000 करोड़ रुपये का था। लेकिन जीक्यूजी मद्रास के अदानी समूह के निवेशकों के निवेश के बाद अदानी स्टॉक्स में तेजी से वापसी हुई, जिसके बाद एलएलसी फिर से अपने निवेश पर मुनाफ़ा में लौट आया।

ये भी पढ़ें

एमपीआई पर नीति आयोग: 9 साल में बहु गरीबी के मुद्दे पर नीति आयोग के दावे पर अर्थशास्त्रियों ने उठाया सवाल, पूछा- ‘कहां से ला रहे डेटा’

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *