Breaking
Thu. Feb 29th, 2024


हवाई यातायात डेटा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत से लक्षद्वीप यात्रा के इस हिस्से को लेकर लोगों की रुचि काफी बढ़ गई है। मगर, पिछले साल लक्षद्वीप जाने वालों का किरदार 8 साल में सबसे कम रहा है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण) द्वारा जारी आंकड़े के अनुसार, पिछले साल लक्षद्वीप के लिए सबसे कम विमानों ने उड़ान भरी थी। अप्रैल से नवंबर, 2023 के बीच इस चित्र को दर्ज किया गया है।

अप्रैल से नवंबर के बीच 1080 फ़्लाइट्स का प्रस्थान हुआ

एक होटल के अनुसार, पिछले साल अप्रैल से नवंबर के बीच लक्षद्वीप के एकमात्र हवाईअड्डे पर 1080 फ़्लाइट्स का उद्घाटन हुआ था। साल 2022 में इसी अवधि के दौरान अगात्ती एयरपोर्ट (अगात्ती एयरपोर्ट) से 1482 प्रारूप का संचालन किया गया था। इससे एक साल पहले 2021 में 1202 फ़्लाइट की अगात्ती एयरपोर्ट से हुई थी। 2020 में सिर्फ कोरोना के साथ जुड़े रहें, लॉकडाउन से लेकर ट्रैवल और टूरिज्म इंडस्ट्री में बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी और लक्षद्वीप पर भी इसका बुरा असर पड़ा था। एयरक्राफ्ट का लड़ाकू विमान के टेक ऑफ और माउंट का हिस्सा है।

मोदी की यात्रा के बाद जमीन ने उत्सुकता का जन्म कर दिया

हाल ही में पीएम मोदी की लक्षद्वीप यात्रा के बाद सोशल मीडिया पर लोगों के मन में लक्षद्वीप को लेकर उत्सुकता पैदा हुई है। इसके बाद पीएम मोदी द्वारा की गई भव्य फिल्म पर ‘मोदी’ का ‘मोदी’ और ‘गरम’ हो गया। देश के कट्टरपंथियों से लेकर आम आदमी तक ने नोटबंदी का बहिष्कार कर दिया था. कई सेलेब्रिटीज ने भी बनाई थीं लक्षद्वीप की जगहें ऐसी उम्मीद है कि इस साल लक्षद्वीप जाने वालों की संख्या तेजी से बढ़ सकती है।

हवाईअड्डे से ही उड़ती हैं उड़ानें

एलायंस एयर की एकमात्र उड़ान का निरीक्षण एयरपोर्ट से किया गया है। यह छोटा सा मैदान कोच्चि से लोगों के रास्ते लक्षद्वीप तक पहुंचता है। अवलोकन कोच्चि से ही सीधी उड़ान लक्षद्वीप जाती है। अगघटी हवाई अड्डे पर बनी छोटी हवाई पट्टी पर प्लेन बड़ी नहीं उतर सकती। लक्षद्वीप प्रशासन मिनीकॉय द्वीप (मिनिकॉय द्वीप) में बड़ा हवाई अड्डा बनाने की तैयारी में है ताकि लक्षद्वीप में पर्यटन को बढ़ावा मिल सके। साथ ही सेना को भी मदद मिलेगी बड़ी सुविधा.

लैब के बिना नहीं जा सकते लक्षद्वीप

हालाँकि, लक्षद्वीप जाने से पहले आपको लगभग 15 दिन पहले कई तरह की अंतिम क्रियाएँ करनी पड़ेंगी। सबसे पहले आपको दस्तावेज़ के लिए आवेदन करना होगा। कोच्चि के विलिंगटन द्वीप क्षेत्र में लक्षद्वीप प्रशासन कार्यालय है। यहां से आप डॉक्यूमेंट्री अप्लाई कर सकते हैं। 30 दिन के आंकड़े की फीस 300 रुपये है। साथ में 300 रुपये ग्रीन टैक्स भी शामिल है। दिल्ली से लक्षद्वीप की फ़्लाइट का किराया 10 हज़ार रुपये से शुरू होता है। लक्षद्वीप के लिए शिप का बिजनेस 4 से 8 हजार रुपये के बीच है। शिव से लक्षद्वीप तक पहुँचने में 14 से 18 घंटे लगे हैं। लक्षद्वीप में साझीदारी के लिए साझीदार की कमी है इसलिए पहले से ही सलाह करा लें। शाकाहारी लोगों को यहां थोड़ी सी परेशानी हो सकती है।

ये भी पढ़ें

गो फर्स्ट एयरलाइन: 31 जनवरी तक का मौका, गो फर्स्ट एयरलाइंस जेट रेस में सबसे आगे

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *