Breaking
Tue. Apr 23rd, 2024

[ad_1]

नारायण और सुधा मूर्ति की शादी: इंफोसिस के सह-संस्थापक नारायण मूर्ति और नागालैंड सुधा मूर्ति देश के सबसे समृद्ध जोड़ों में से एक हैं, लेकिन वे अपनी सादगी भरी जीवन शैली के लिए जाते हैं। हाल ही में नारायण और सुधासुधा मूर्ति ने एक चैनल को दिए साक्षात्कार में अपनी शादी से जुड़े कई चौकाने वाले राज खोले हैं। कपल ने बताया कि उन्होंने अपनी शादी में सिर्फ 800 रुपए खर्च किए थे।

सुधासुधा मूर्ति ने साक्षात्कार के दौरान कहा- मैं एक बड़ी ज्वाइंट फैमिली से संबंध लिखती हूं, जहां केवल परिवार में 75 से 80 सदस्य थे। अपने पिता सुधा मूर्ति की शादी में 200 से 300 रिश्तेदारों को बुलाना चाहते थे, मगर सुधा मूर्ति एक शानदार शादी के बजाय बेहद सादगी से शादी करना चाहती थीं।

पिता हुए थे नाख़ुश

सुधा नारायण मूर्ति और नारायण मूर्ति की शादी साल 1978 में हुई थी। दोनों ही मुख्य फिल्म के बजाय सादगी से शादी करना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने शादी का बजट 800 रुपये तय किया था, लेकिन यह बात सुधा मूर्ति के पिता नखुश से थी। उन्होंने कहा कि यह परिवार की पहली बेटी की शादी है और वह इसे फैंस से करना चाहती हैं, लेकिन आखिरी में दोनों ने सादगी से बड़ी शादी करने का फैसला लिया। कपल ने बेंगलुरु में अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ सात फेरे लिए थे।

शादी में खर्च हुआ महज 800 रुपये

सुधामूर्ति ने बताया कि इस शादी में दोनों ने मिलकर कुल 800 रुपए खर्च किए थे, जिसमें 400 रुपए नारायण मूर्ति और 400 रुपए सुधामूर्ति ने खर्च किए थे। दोनों ने अपनी शादी को बेहद सादा रखा था। नारायण मूर्तिकार ने सुधाधीषी व्रत को या मंगलसूत्र में से किसी एक को लेने का विकल्प दिया था, तो उन्होंने 300 रुपये में नया मंगलसूत्र खरीदा था। सुधामूर्ति ने इस साक्षात्कार में कहा कि शादी सिर्फ एक दिन का बंधन नहीं, जीवन भर का साथ होता है। ऐसे में हमें ज्यादा से ज्यादा पैसा खर्च करने के बजाय एक दूसरे पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

नारायण मूर्ति तीन करोड़ के स्वामी हैं

इंफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति का नाम देश के सबसे अमीर लोगों की सूची में शामिल है। फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक उनकी नेट वर्थ 4.4 डॉलर है। नारायण और मूर्ति सुधा की कुल संपत्ति लगभग 37,465 करोड़ रुपये है। सुधासुधा मूर्ति इंफोसिस फाउंडेशन के अध्यक्ष हैं।

ये भी पढ़ें-

म्यूचुअल फंड: टॉप 10 फंडों का एयूएम 80 प्रतिशत नीचे आया, जानें क्या है कारण

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *