Breaking
Fri. May 24th, 2024

[ad_1]

अति उच्च निवल मूल्य वाले व्यक्ति: भारत में अल्ट्रा हाई नेटवर्थ व्यक्तियों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। और नाइट फ्रैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2028 तक भारत में अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिजुअल्स की संख्या 50 प्रतिशत बूथ 19,908 होगी जो 12,263 है। किसी भी देश में पिछले पांच वर्षों में भारत एक मात्र देश है जहां इतनी बड़ी संख्या में अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है।

50 फीसदी बढ़ेगी अमीरों की संख्या

अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स पर नाइट फ्रैंक ने डी वेल्थ रिपोर्ट 2024 के नाम से अपनी फ्लैगशिप जारी की है। रिपोर्ट के अनुसार 2023 में अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स यानी अमीरों की संख्या में 6.1 फीसदी का अंतर देखने को मिला है और दूसरे देशों में अमीरों की संख्या 13,263 हो गई है। रिपोर्ट के मुताबिक 2028 में अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स भारतीयों (अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स) की संख्या 2028 में 19,908 हो जाएगी जो 2023 में 13,263 थी। अगले पांच वर्षों में भारत में अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स की स्थिति में 50.1 फीसदी का उछाल आ सकता है। नाइट फ्रैंक की रिपोर्ट के वेल्थ रिपोर्ट 2024 के अनुसार 90 प्रतिशत अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स भारतीयों को उम्मीद है कि इस साल भी उनकी संपत्ति में बड़ा उछाल देखने को मिल सकता है।

दिल्ली 37वें स्कॉर्पियो पर

नाइट फ्रैंक की वेल्थ रिपोर्ट 2024 के मुताबिक दिल्ली दुनिया के टॉप 100 लग्जरी रेसिडेंशियल मार्केट्स में 37वें रिक्शा चल रहा है। जो कि 2022 में 77वें संस्करण पर आधारित था। रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में विला रेसिडेंशियल मार्केट के मार्केट वैल्यू में 4.2 फीसदी साल दर साल की बढ़ोतरी देखने को मिली है। दिल्ली में एक मिलियन डॉलर (8.30 करोड़ रुपये) से 377 वर्ग मीटर की संपत्ति हो सकती है, जबकि 2022 में 226 वर्ग मीटर की संपत्ति हो सकती है। 2019 में 197 वर्ग मीटर की क्षमता जा सकती थी।

12 प्रतिशत अमीर खरीदेंगे नया घर

जिन लोगों के पास 30 मिलियन डॉलर यानी 3 करोड़ डॉलर (249 करोड़ रुपये) से ज्यादा की संपत्ति है और वे अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स की कैटगरी में आते हैं। वेल्थ रिपोर्ट 2024 के अनुसार देश के 32 प्रतिशत अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स ने अपनी प्रॉपर्टी कोडिडेंस रियल एस्टेट एसेट क्लास में अलोकेट किया है। जबकि 14 फ़ीसदी रेसिडेंशियल पोर्टफोलियो भारत से बाहर आलोकित है। रिपोर्ट के अनुसार 12 प्रतिशत अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स 2024 में नए घर खरीदने की तैयारी है। जबकि 2023 में तीन ही लोगों ने खरीदारी की. रिपोर्ट के मुताबिक अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स का औसत 2.57 घर है और 28 प्रतिशत ने 2023 में अपना दूसरा घर किराया दिया है।

भारत में बढ़ती समृद्धि

वेल्थ रिपोर्ट 2024 नाइट फ्रैंक इंडिया के गरीबी रेखा और प्रबंध निदेशक शिशिर बैजल ने कहा, धन सृजन के इस परिवर्तनकारी युग में, भारत वैश्विक आर्थिक पटल पर समृद्धि के प्रमाण के रूप में खड़ा है। अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स की संख्या अगले पांच वर्षों में 50.1 प्रतिशत का टूट जाएगी। 90 प्रतिशत ऐसे लोगों की किस्मत में 2024 में और बदलाव देखने को मिलेंगे। जब वैश्विक स्थिरता बनी हुई है, तो घरेलू उद्यमियों के जोखिमों में कमी और स्थिरता की संभावना से भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि और तेजी से बढ़ेगी, जिसका प्रमाण ये अल्ट्रा हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स पेश कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें

रेलवे टिकट की कीमतें: रेलवे ने दी जनता को बड़ी राहत, दिए गए टिकटों के रेट

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *