Breaking
Sat. Feb 24th, 2024


अरबपतियों की सूची: समय-समय पर दुनिया के अमीरों की लिस्ट दिखती रहती है। इनमें हर साल अरब उद्यमियों की संख्या शामिल होती है और दुकानें रहती हैं। साथ ही बिजनेस के आधार पर अरबपति के नाम की लिस्ट में ऊपर और नीचे भी आते हैं। हालांकि अब एक रिपोर्ट में डेट्स वाला खुलासा हुआ है। इसके अनुसार, विरासत में धन प्राप्त करने वाले अरबपति की संपत्ति सबसे अधिक है। वहीं अपनी काबिलियत के दम पर आगे बढ़ रहे लोगों को पीछे छोड़ दिया गया है। उधर, भारत के अरब दिग्गजों की संपत्ति इस साल 11 फीसदी कम कीमत 637.1 अरब डॉलर रही, जो साल 2022 में 715 अरब डॉलर पर थी।

इस समय दुनिया में 2544 अरबपति

बैंक स्विस यूबीएस द्वारा जारी बिलेनियर्स एंबियंस रिपोर्ट, 2023 के अनुसार, इस समय दुनिया में 2544 अरबपति हैं। कुल संपत्ति 9 फ़ीसदी डॉलर 12 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच गई है। बैंक स्विस ने यह रिपोर्ट 2015 से शुरू की थी। अब पहली बार विरासत में मिली संपत्ति में अपनी दम पर कमाई संपत्ति से ज्यादा है।

137 नये अरबपति बने

रिपोर्ट के मुताबिक, 137 लोग नए अरबपति बने हैं। इनसे 53 को विरासत में 150.8 अरब डॉलर की संपत्ति मिली। साथ ही 84 ऐसे लोग भी लिस्ट में शामिल हुए. अपने दम पर 140.7 अरब डॉलर की संपत्ति बनाई। इसका साफ पता चल रहा है कि जनरेशन दर जनरेशन प्रॉपर्टी पोस्ट में स्थानांतरित हो गई है। इस संपत्ति में निवेश करने वाले स्विस बैंकों के लिए अवसर और उद्यम स्टॉक हो रहे हैं। इस नई पीढ़ी की नई सूची के हिसाब-किताब से संबंधित जानकारी। ऐसे में माना जा रहा है कि वो विरासत में मिले इन एसेट का इस्तेमाल आप अपने तरीके से करेंगे।

नई पीढ़ी को विरासत विरासत वाले हैं 1000 अरबपति

दुनिया की सबसे बड़ी दौलतमंद कंपनी यूबीएस (UBS) के मुताबिक उसकी संपत्ति करीब 5.5 ट्रिलियन डॉलर है। अगले दो दशकों में यह प्रवृत्ति और वृद्धि हुई। लगभग 1000 अरबपतियों की अगली पीढ़ी की विरासत में लगभग 5.2 ट्रिलियन डॉलर की संपत्ति शामिल है। ऐसे में यू.बी.एस. जे.एस.आई. के सामने नई पीढ़ी से पुराने जैसे रिश्ते बनने की चुनौती बनी हुई है। अन्यत्र संपत्ति एक स्थान से दूसरे स्थान पर होने के मामले बढ़ेंगे। इसके बने वेल्थ फर्मों को अपना व्यापार बनाए रखने के लिए बहुत अधिक जोर लगाना पड़ेगा।

इलेक्शन का फैंटेसी गेम, जीतें 10,000 तक के गैजेट्स 🏆
*नियम एवं शर्तें लागू
https://bit.ly/ekbabplbanhin

ये भी पढ़ें

महिलाओं के लिए नौकरियाँ: महिलाओं के लिए रोज़गार भरपूर मगर नहीं मिलती अच्छी रोज़गार, क्या कहते हैं आँकड़े

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *