Breaking
Sun. Jun 23rd, 2024

[ad_1]

लोगों के साथ हल्दी मूढ़ा के बाद सरकार ने पिछले कुछ समय से फोर्ड लोन ऐप पर काफी सख्ती बरती है। सरकारी अधिसूचना का असर यह हुआ कि गूगल ने अपने प्ले स्टोर से 2,500 ऐसे ऐप को बेच दिया है। सरकार ने लोकसभा में इसकी जानकारी दी है। ऐप को हटा दिया गया है. गूगल द्वारा ये अप्रैल एक्शन 2021 से जुलाई 2022 के बीच जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि गूगल ने 3,500 से 4,000 लेंडिंग ऐप का रिव्यू करने के बाद ये कार्रवाई की है। वित्त मंत्री विपक्ष में एक प्रश्न का लिखित उत्तर दे रही थी। रिप्लाई में फ्रॉड लोन ऐप की कार्रवाई के बारे में पार्टी को एक ही तरह का अंदेशा जताया गया। फर्जी लोन ऐप पर रिजर्व बैंक और अन्य फर्मों के साथ मिलकर लगातार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर नेपोलियन स्टेबिलिटी एंड गिरिडीह परिषद की बैठकों में लगातार चर्चा की जाती है और इसकी निगरानी की जाती है। एफएसडीसी एक इंटर-रेगुलेटरी फोरम है, जो वित्त मंत्री के पास है। साइबर सुरक्षा प्रणाली को बनाए रखें और भारत की वित्तीय स्थिति को दूर करने के लिए समय पर कदम उठाएं।

आरबीआई ने तैयार की ये लिस्ट

बकॉल सोसाइटी, रिजर्व बैंक ने सरकार को लीगल ऐप की एक व्हाइट लिस्ट दी है। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने वह लिस्ट गूगल के साथ साझा की है। गूगल गूगल द्वारा तैयार व्हाइटलिस्ट के आधार पर ही लोन लाइट वाले ऐप को अपने ऐप स्टोर पर मंजूरी दी गई है। इसी तरह से फ़र्ज़ी लोन ऐप पर स्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: दुनिया का दूसरा सबसे अमीर अपराधी, जानें 2000 अरब की नेटवर्थ!

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *