Breaking
Tue. Apr 23rd, 2024

[ad_1]

धारावी पुनर्विकास परियोजना: मुंबई की मशहूर धारावी धारावी पुनर्विकास परियोजना (धारावी पुनर्विकास परियोजना) की जिम्मेदारी दिग्गज मियामी अदानी (गौतम अदानी) को डिजाइन की गई है। अडानी ग्रुप (अडानी ग्रुप) और मुंबई स्लम पुनर्वास एजेंसी (स्लम रिहैबिलिटेशन अथॉरिटी) के पार्टनर धारावी को विकसित करने वाले प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं। अब अडानी ग्रुप ने इस प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी एक ग्लोबल टीम (ग्लोबल टीम) को सौंपी है

कई सारे सोशल रॉकेट प्रोजेक्ट्स बनाने का अनुभव

धारावी रीडेवलपमेंट प्रोजेक्ट (डीआरपीपीएल) के, वे हफीज कॉन्ट्रेक्टर (हाफीज कॉन्ट्रैक्टर), अमेरिका की डिजायन फर्म सासाकी (सासाकी) और ब्रिटिश कंसल्टेंसी फर्म ब्यूरो हपोल्ड (ब्यूरो हैपोल्ड) के साथ मिलकर काम करते हैं। हफ़ीज़ कॉन्ट्रेक्टर को कई सारे सोशल हैशटैग प्रोजेक्ट (सोशल हाउसिंग प्रोजेक्ट) बनाने का अनुभव है।

छोटे-छोटे इलाक़ों में हज़ारों घर, बसेरे में लाखों लोग हैं

एशिया की सबसे बड़ी स्लैम धारावी का आकार न्यूयॉर्क का सेंट्रल पार्क है। इसमें लाखों लोग निवास करते हैं। इस छोटे से इलाके में हजारों छोटे-छोटे घर बने हुए हैं। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के अंदर धारावी स्लैम गरीबों की बस्ती है। इस इलाके में हजारों लोगों के लिए साफ पानी और शौचालयों की व्यवस्था नहीं है।

अडानी ग्रुप का विकास 625 लैंडस्केप कंपनी द्वारा किया जा रहा है

अडानी ग्रुप ने धारावी रीडेवलपमेंट प्रोजेक्ट के लिए 61.9 करोड़ डॉलर की बोली लगाई थी। इसके तहत 625 ओकरे (253 हेक्टेयर) का विकास अडानी ग्रुप द्वारा किया जा रहा है। इसे दुनिया की सबसे बड़ी शहरी विकास योजना बताया जा रहा है। डीअप्रैलपीएल की शुरुआत जुलाई में हुई थी।

पहली बार 1980 में की गई थी कोशिश

इस प्रोजेक्ट का विरोध अभी भी जारी है। धारावी के विकास के लिए पहली बार 1980 में प्रोजेक्ट कॉमेडी की कोशिश की गई थी। मगर, किसी न किसी कारण और विरोध की वजह से प्रोजेक्ट हर बार टालता जा रहा है। महाराष्ट्र सरकार ने आखिरकार इस प्रोजेक्ट को जुलाई में एक दिलचस्प प्रस्ताव दिया। इसके बाद भी बार-बार इस प्रोजेक्ट के खिलाफ प्रदर्शन होते रहते हैं. हाल ही में कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि फैजाबाद पुलिस अधिकारियों की मदद से विरोध करने वाले धारावी के इलाके को धमकाया जा रहा है।

ये भी पढ़ें

जीएसटी संग्रह में वृद्धि: 14.97 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी कलेक्शन में गिरावट, वित्त मंत्रालय ने जारी की रिपोर्ट

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *