Breaking
Fri. Mar 1st, 2024


अप्रैल से नए वित्त वर्ष अर्थात वित्त वर्ष 2024-25 की शुरुआत होगी। उसके साथ ही इनकम टैक्स को लेकर टैक्सपेयर्स का पोर्टफोलियो भी शुरू हो मकसद। वैसे तो अभी टैक्सपेयर्स के पास चालू वित्त वर्ष के लिए भी टैक्स सेविंग प्लान करने का समय बचा हुआ है, लेकिन हमेशा यह सलाह दी जाती है कि टैक्सपेयर्स के पास टैक्स सेविंग प्लान बनाने के लिए अंतिम समय का इंतजार नहीं करना चाहिए। एडवांस टैक्स प्लान करने से आपको ज्यादा से ज्यादा पैसे बचाने में मदद मिलती है।

हर बार नया वित्त वर्ष शुरू होने से पहले ही टैक्स सेविंग करने का समय शुरू हो जाता है। आज हम आपको एडवांस में टैक्स सेविंग प्लान के बारे में कुछ बातें बता रहे हैं। बड़े काम के लिए इन तरीकों से खरीदें टैक्सपेयर. अगर आप भी किराये से कमाई करते हैं तो टैक्स डिस्काउंट में आपको इन इनस्टॉल से मदद मिल सकती है। . सीटीसी असल में लक्ष्य न किराए पर कई समान से मिश्रित संरचनाएं हैं, जैसे फैक्ट्री पे, टीमए, स्पेशल अलाउंस, वैरिएबल पे, एम्प्लॉयर ईएफ़एफ़ रजिस्ट्रेशनब्यूशन आदि। स्पेशल एलाउंस में आम तौर पर फुल और स्टोर रिमाम्बर्समेंट, एलटीए, फोन बिल रिवाम्बर्समेंट जैसी चीजें आती हैं। ये चीज़ें कर्मचारियों को सुविधा के रूप में मिलती हैं, लेकिन ये साथ-साथ टैक्स भी बचाती हैं। इन खर्चों को आयकर से जोड़ने के बाद टैक्स की गणना की जाती है, जिससे टैक्स की गणना कम हो जाती है और इस तरह के टैक्स की गणना भी कम हो जाती है।

1: हाउस रेंटलाउंस (HRA)

अगर आप नौकरी के दौरान किराए पर रहते हैं तो टैक्स में छूट मिल सकती है। शेयरधारक क्लेम करने का कंडीशन यह है कि आप निवेशकों से शेयरधारकों से जुड़े हुए हैं और आप जिसके घर में रह रहे हैं, उसका निवेशक भर रहे हैं। छूट का कैलकुलेशन तीन प्रतिशत पर नहीं है… एचआरए के रूप में मिली रियल एस्टेट से, मेट्रो सिटी में फैक्ट्री + डीए का 50 प्रतिशत और नॉन-मेट्रो सिटी के मामले में फैक्ट्री + डीए का 40 प्रतिशत, किराये की रियल से। चतुर्थांश +DA का 10 प्रतिशत पर आने वाली राशि। इन प्लान में जो कम होगा वह है NAT पर टैक्स छूट। . यात्रा के लिए हवाई जहाज, ट्रेन या बस की टिकट पर जो नकद खर्च किया जाता है, उस पर टैक्स से छूट मिलती है। यात्रा में अन्य खर्चे शामिल हैं, जिनका विवरण नहीं दिया गया है। चार साल के ब्लॉक में दो बार एलटीए क्लेम कर सकते हैं। विदेश यात्रा पर एलटीए का लाभ नहीं मिलेगा। इसकी मुख्यतः डिजिटल यात्रा पर वास्तविक खर्च या नमक से मिली नकदी में जो कम है, वो होगी। जिससे फोन और इंटरनेट का इस्तेमाल और खर्चा बढ़ गया। इनकम टैक्स का इंटरनेट और फोन बिल जमा करने पर असमान नोट को इनकम टैक्स से छूट की सुविधा मिलती है। रेलवे यात्रियों के बिल तय हैं या किराये में जो नोट इस पागल में दिया गया है, जिसमें जो कम है, उस पर टैक्स नहीं लगेगा।

4: भोजन व्यंजन

आप कार्यालय काम के दौरान चाय-पानी और खाने पर जरूर जाना होगा। कंपनी आपको काम के दौरान या प्री-पेड फूड वाचर/कूपन के लिए फूड अलाउंस दे सकती है। इसके तहत, एक वक्त के हिसाब से 50 रुपये टैक्स-मुक्त होते हैं। इस तरह से ऐसे सिमुलेटर का इस्तेमाल कर हर महीने 2,200 रुपये यानी सालाना 26,400 रुपये की कीमत पर टैक्स फ्री किया जा सकता है। अगर आप किसी काम के लिए टैक्सी या कैब से आते हैं तो यह रिम्बर्स कन्वर्ज़न टैक्स-मुक्त होता है। वहीं, अगर आप अपनी कार या कंपनी से मिली कार का इस्तेमाल कर रहे हैं तो मिर्च और राख-रखाव के खर्च के लिए मिले पेमेंट को टैक्स-फ्री करा सकते हैं।

6: पेपर और पत्र-पत्रिकाएं

बर्बर-बूधे हमें बचपन से पेपर पढ़ने की सलाह देते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि पेपर टैक्स भी बचा सकते हैं। किताबें, अखबार और पत्र-पत्रिका दस्तावेजों के लिए दिए गए भुगतान भी कर-मुक्त होते हैं, दस्तावेज उनके मूल बिल के साथ लगाए जाते हैं। बिल की रकम या रकम में इस पागल राशि में जो कम है, वह टैक्स के विवरण से बाहर रहेगा।

ये भी पढ़ें: आईटी सेक्टर का बिजनेस वाला ट्रेंड, टॉप-4 आईटी सेक्टर में कम हुई जगह, 2 साल में हेडकाउंट 50 हजार डाउनलोड

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *