Breaking
Wed. Apr 17th, 2024

[ad_1]

भारत निर्यात: घरेलू बाजार में आइटम, चावल, चीनी बाजार में जारी तेजी पर लगाम के लिए भारत सरकार ने इन खाद्य वस्तुओं के निर्यात पर रोक लगा दी है। सरकार के इस फैसले का असर भारत के एक्सपोर्ट पर पड़ सकता है। सरकार के इस फैसले के मुताबिक वित्त वर्ष 2023-24 के दौरान 4 से 5 डॉलर निर्यात में कमी रह सकती है। इसके अलावा लाल सागर में ईरान के समर्थन वाले होती विद्रोहियों के हमलों के एक्सपोर्ट पर भी प्रभावकारी हमले के आसार हैं।

घरेलू बाज़ार में वर्षा के उत्पादों, चावल और कृषि उत्पादों पर असर पड़ता है। जिससे घरेलू उत्पाद बाजार में आटा, लेकर चावल और चीनी चिप्स का उत्पादन होता है। 2024 में चुनाव ऐसा हो रहा है कि सरकार ने किसी भी जोखिम को कम करने की योजना बनाई है, चावल चीनी के निर्यात पर रोक लगा दी गई है। भारत इन खाद्य सुपरमार्केट का सहयोगी भी था. लेकिन सरकार ने कहा कि चावल और चीनी निर्यात पर रोक लगा दी गई है, जिससे घरेलू बाजार में आम आदमी की हिस्सेदारी बढ़ जाएगी। सरकार के इस फैसले का असर एक्सपोर्ट अनुमान पर पढ़ा जा सकता है। कॉमर्शियल सर्विसेज़ कंसर्ट राजेश अग्रवाल ने बताया कि चीनी, चावल और सामानों के एक्सपोर्ट बंदिशों के लिए 4 से 5 तक कम हो सकते हैं।

इन प्रमुख कृषि उत्पादों पर रोक के स्थिर वित्त वर्ष में भारत का कृषि निर्यात पिछले वर्ष के स्तर 53 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है। पिछले वित्त वर्ष 2022-23 में देश का कृषि उत्पाद का हिस्सा 53 अरब डॉलर था। अग्रवाल ने यहां कहा, ”राजेश पाबंदियों के स्टॉक पर कुछ कमोडिटी के एक्सपोर्ट के बावजूद हम उम्मीद करते हैं कि हम पिछले स्तर तक पहुंच जाएंगे।” उन्होंने कहा कि सरकार केले जैसे नई कठपुतली और अनाज से बने मूल्यवर्द्धित कठपुतली को नए वैश्विक लक्ष्यों तक के लिए शामिल करने के लिए प्रोत्साहन दे रही है। अगले तीन साल में केले का सहयोगी एक अरब डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है। अप्रैल से नवंबर के दौरान फल एवं डेयरी उत्पाद, दालें, मांस, फलों एवं सब्जियों की पैदावार में वृद्धि दर अच्छी रही। हालाँकि, राइस आर्टिस्ट 7.65 प्रतिशत की कीमत 6.5 अरब डॉलर पर है।

लाल सागर में ईरान के समर्थन वाले होती विद्रोहियों के समुद्री हमलों पर हुए हमलों ने भारत सरकार की चिंता बढ़ा दी है। इस हमले का असर अफ्रीका जाने वाले एक्सपोर्ट पर पड़ सकता है। भारत सरकार अफ्रीका को एक्सपोर्ट करने के लिए वैकल्पिक रूट पर विचार कर रही है। हालाँकि इसके संयुक्त स्वामित्व वाले संग्रहालय में 15 से 20 प्रतिशत का उछाल आ सकता है।

ये भी पढ़ें

चावल की कीमत में बढ़ोतरी: चावल की कीमत में बढ़ोतरी नहीं! अफ़्रीका में कमी के बचाए 15 सागर के ऊँचे समुद्र तट पर चावल की कीमत

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *