Breaking
Wed. Apr 17th, 2024

[ad_1]

जैसे-जैसे साल का पहला महीना यानी जनवरी शुरू होने वाला है, बजट की तारीख निकटतम आ रही है। अगले महीने की शुरुआत आम बजट के साथ होगी. यह बजट उस समय देश में कुछ महीने बाद आ रहा है चुनाव होने वाले हैं. इस कारण लोग बजट से काफी विस्तृत विवरण रखे हुए हैं। इस सूची में शामिल लोगों को यह उम्मीद है कि सरकार में अलग-अलग चीजों का वर्गीकरण जारी किया जा सकता है।

नई कर व्यवस्था सरकार की इच्छा पर

बजट से पहले हर बार लोगों को कर के बारे में जानकारी जारी की जाती है। इस बार भी कहानी अलग नहीं है. एक ऐसी ही उम्मीद जुड़ी है नई कर व्यवस्था के साथ. केंद्र सरकार नई कर व्यवस्था अर्थात नए टैक्स रिजीम को लोकप्रिय बनाना चाह रही है। सरकार चाहती है कि ज्यादा से ज्यादा लोग नई व्यवस्था चुनें। हालाँकि अब भी बड़ी संख्या में टैक्सपेयर पुरानी कर व्यवस्था के साथ जा रहे हैं। इसका कारण पुरानी कर व्यवस्था में मिल रहा भारी कर लाभ है। ऐसे में नई कर व्यवस्था में टैक्स अवशेषों का ढांचा मजबूत करने की बात कही जा रही है।

टैक्स रिबेट में बढ़ोतरी नहीं होगी

हालांकि अब केंद्र सरकार ने इस प्रतिष्ठान पर अपना रुख साफ कर दिया है। मनी कंट्रोल की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस बार के बजट में टैक्स रिबेट के तहत नई कर व्यवस्था नहीं होने वाली है। मनी कंट्रोलर ने यह दावा वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के कार्यालय से किया है। हालाँकि अधिकारी का नाम या उसकी पहचान स्पष्ट रूप से नहीं बताई गई है।

बजट 2024 से लोगों की उम्मीद

लोग ऐसा शुरू कर रहे थे कि आगामी बजट में नई कर व्यवस्था के लिए आयकर विभाग को आयकर विभाग की बैठक में शामिल किया जा सकता है। अभी नई कर व्यवस्था के तहत आयकर छूट का मूल्‍य 7 लाख रुपये है. इसमें 7.5 लाख रुपये की बढ़ोतरी की उम्मीद थी। वित्त मंत्री ने पिछले साल यानी 2023 में बजट में इस समूह को 5 लाख रुपये से बढ़ाकर 7 लाख रुपये करने का ऐलान किया था।

पिछले बजट में जोड़े गए ये फायदे

नई कर व्यवस्था में पहले कर लाभ न के बराबर थे, लेकिन इसे लोकप्रिय बनाने के लिए बाद में कई कर लाभ जोड़े गए। पिछले साल के बजट के अलावा टैक्स रिबेट के आंकड़ों में भी बढ़ोतरी की गई थी। इसे 2.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 3 लाख रुपये कर दिया गया। सरकार ने परिवार पेंशन के लिए 15 हजार रुपये की डिलिवरी भी शुरू की थी. इंडिविजुअल्स, पेंशनभोगियों और परिवार पेंशनभोगियों के लिए पहली बार 2023 बजट में मानक सूची जारी करने की नई व्यवस्था शुरू की गई थी।

ये भी पढ़ें: सबसे अच्छा मल्टीबैगर! 6 रुपये से 44 रुपये हुआ भाव, साल भर में आई 335 बेडरूम की तेजी

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *