Breaking
Fri. Feb 23rd, 2024



<पी शैली="पाठ-संरेखण: औचित्य सिद्ध करें;"<स्पैन स्टाइल="फ़ॉन्ट-भार: 400;"महिलाओं के लिए शीर्ष नेतृत्व: महिलाओं के लिए अच्छी नौकरी हासिल करना और उन्हें बचाए रखना पुरुषों के लिए कठिन काम माना जाता है। यही कारण है कि होटलों में महिलाओं के टॉप लीडरशिप में बदलाव करना अभी भी इतना आसान नहीं है। भारतीय उद्यमों में महिला कर्मचारियों की संख्या महज 22 फीसदी है। अगर हम टॉप लीडरशिप मूवी को देखें तो यह पात्र और प्रतिभा सिर्फ 20 प्रतिशत ही रह जाती है। सीईओ और सीएफओ जैसे पुराने प्रतिष्ठित पर तो पात्र और भी कम रह जाते हैं, जो चिंता का विषय है। 

सियो-सी फ़ोबिया नहीं बन पा आवारा महिलाएं

डेलॉयट ग्लोबल वूमेन इन बोर्डरूम स्टडीज के 7वें एडिशन में दावा किया गया है कि भारत में सिर्फ 5 फीसदी सीईओ और 4 फीसदी सीएफओ के पद महिलाओं के करीब हैं। यहां तक ​​की आईटी और इलेक्ट्रॉनिक सेवाओं में भी पासपोर्ट सूची नहीं है। इन सेक्टरों में महिला कर्मचारियों की संख्या सबसे ज्यादा है। इसके बावजूद ज्यादातर बड़ी महिलाएं पर पहुंच में नाकाम हैं। 

आईटी सेक्टर में सबसे ज्यादा महिला कर्मचारी और अधिकारी

सीएफए इंस्टीट्यूट के सर्वे में पता चला कि आईटी सेक्टर में सबसे ज्यादा 18.7 फीसदी महिला कर्मचारी और अधिकारी हैं। विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित में महिला स्नातकों की संख्या भारत में पूरी दुनिया से अधिक है। मगर, इनमें से सिर्फ एक ही अच्छा सामान में जाग्रत उत्पाद हैं। इनमें से भी ज्यादातर पांच साल के भीतर अपना कैरियर खत्म कर दिया गया है। इसके लिए काम करने के गलत तरीके, दुर्भावना, पूर्व, समान अवसरों का समावेश नहीं होता है जिसमें कई कार्य जिम्मेदार होते हैं।

बैट पद पर मौजूद महिला करती है पदवी 

वित्तीय सेवा कंपनी में भी यही हाल है। एनएसडीएल के एमडी एवं सीईओ पद्मजा चुंदरू का कहना है कि महिलाएं नौकरी और परिवार के बीच पीसकर रह जाती हैं। अवशेषों के अनुसार वह उच्च दुकानों के उत्पादों को हासिल नहीं कर सका। यदि कोई महिला बड़े पद पर हो तो वह कंपनी में अन्य महिलाओं को भी भर्ती कर सकती है। 

10 साल में सम्राट हैं सम्राट 

के पीएमजी की सुजाता शिवशंकर का कहना है कि पिछले 10 वर्षों में भारतीय पुरातत्व जगत में महिलाओं की स्थिति में काफी सुधार आया है। यह श्रेणी लगभग 27 प्रतिशत है। हमें इसे 50 प्रतिशत पर ले जाने के बारे में बताना होगा। समान अवसर, समान वेतन और बेहतर सांता क्लॉज़ हम सहयोगियों में शीर्ष स्तर पर महिलाओं की ताकत बढ़ा सकते हैं।

ये भी पढ़ें 

मूनलाइटिंग: एक साथ दो गांव कर 2.5 करोड़ रुपए की कमाई, इस युवा की छप्परफाड़ कमाई से सब हैरान 

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *