Breaking
Fri. May 24th, 2024

[ad_1]

महंगाई से राहत का इंतजार कर रहे आम लोगों को हाथ की छूट मिल सकती है। एक तरफ खाने-पीने की नीदरलैंड की बस्ती में कमी आ रही है, दूसरी तरफ एफएमसी बैंक की बस्ती की नई गाज गिराने की तैयारी में हैं। खबरों के मुताबिक, कंपनी के निवेशक आने वाले दिनों में अपनी अलग-अलग कंपनियों के दाम को बढ़ाने की तैयारी कर रहे हैं।

2 से 4 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हो सकती है नुकसान

ईटी की एक रिपोर्ट के अनुसार, गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स, डाबर और इमामी सहित कई एफसीजी निवेशक अपने विभिन्न मॉडलों के दाम बढ़ाने वाली हैं। इस साल ये आलू अपने लैपटॉप के दाम 2 से 4 फीसदी तक बढ़ा सकते हैं. कंपनियों को उम्मीद है कि इस साल के दौरान उनकी ग्रोथ को सपोर्ट मिलने वाला है। रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल 2017 में सीएजी कंपनी की कंपनी ने अपने सीएजी इंडस्ट्रीज की वैल्यूएशन को प्रभावित किया था। इस साल दाम बढ़ने से ग्रोथ की संभावना भी बढ़ने की उम्मीद है। एस्ट्रेट्स का प्रयोग किया जाता है. साबून, नमकीन, टूथपेस्ट, टूथब्रश से लेकर स्मोक्ड फूड और सॉफ्ट ड्रिंक आदि फ़ूजी उत्पादों में गिने जाते हैं। इनमें से हर किसी के जीवन पर डैम ग्रोथ का असर दिखता है और हर घर का बजट तय होता है, क्योंकि आज के समय में लगभग हर किसी के जीवन पर कोई फर्क नहीं पड़ता है।

भारत में संघर्ष की बात करें तो पिछले महीने इसमें कुछ नारी का आकलन किया गया था। जनवरी महीने में रिटेल रिटेल की दर कम होकर 5.1 फीसदी रही, जो कि तीन महीने में सबसे कम है। हालाँकि यह अभी भी रिजर्व बैंक को 4 प्रतिशत दिए गए लक्ष्य से ऊपर है। यही कारण है कि फरवरी माह के दौरान हुई एमपीसी बैठक में भी रिजर्व बैंक ने ब्याज ब्याज पर कोई निर्णय नहीं लिया। रिज़र्व बैंक में अभी भी संकट की स्थिति बनी हुई है।

ये भी पढ़ें: दुबई में भी है यह भारतीय स्कूल, हजारों सीईओ को समर्पित टॉप बिजनेस

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *