Breaking
Wed. Apr 17th, 2024

[ad_1]

<पी शैली="पाठ-संरेखण: औचित्य सिद्ध करें;"<स्पैन स्टाइल="फ़ॉन्ट-भार: 400;"कीमत में वृद्धि: किसी भी देश के लिए किसान का मित्र अत्यंत आकर्षक होता है। होने वाली में थोड़ी सी भी उठापटक लोगों का बजट बनाकर रख देती है। मगर, सोचिए अगर किसी देश में 200 प्रतिशत से भी ज्यादा का उछाल जाए तो वहां की जनता पर क्या असर पड़ेगा। कुछ ऐसी ही विकराल समस्या का सामना लैटिन अमेरिकी देश अर्जेंटीना की जनता कर रही है। वहां पर बिजनेस में करीब 211 फीसदी का उछाल आया है. हर छोटे-बड़े जानवर की कीमत अवशेष बनी हुई है और जनता की जेबें खाली हो गई हैं। ऐसे तत्व हैं ऐसा क्यों हो रहा है। 

अर्जेंटीना की मुद्रा पेसो की कीमत आधी हुई 

रायटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अर्जेंटीना की मुद्रा पेसो का मूल्यांकन किया गया है। राष्ट्रपति जेवियर मिले की नई सरकार ने पेसो की कीमत आधी कर दी है। इसके शेयरों में तेजी से उछाल आया और यह 2023 में 211 फीसदी के आंकड़े पार कर गया. सरकारी बायोडाटा एजेंसी आईओसी (INDEC) के अनुसार, देश में पिछले तीन दशक के सबसे बड़े स्तर पर पहुंच गया है। 

ब्याज लेखक भी बढ़े हैं करीब 133 प्रतिशत

जानकारी के अनुसार, देश में स्थिति इतनी खराब है कि आंकड़ों के आधार पर देश में पड़ोसी देश वेनेजुएला जैसी स्थिति में पहुंच गया है। अर्जेंटिना दक्षिण अमेरिका में सबसे अधिक बर्चस्व वाला देश बन गया है। देश में चार्टर्ड आर्टिस्ट की भी करीब 133 प्रतिशत बढ़ियां हैं। जेवियर मिले की सरकार द्वारा जा रहे प्रयास से भी जनता को कोई राहत नहीं मिल रही है। साल 2022 में देश में संघर्ष दर 95 प्रतिशत प्रति थी। सिर्फ एक साल में यह नौकरी सबसे ज्यादा हो गई है। दिसंबर, 2023 में मासिक तिमाही दर 25.5 प्रतिशत तक पहुंच गई, जबकि नवंबर में यह 12.8 प्रतिशत रही थी। सरकार ने अपने 30 फीसदी पर पहुंच की जोखिम भरी संभावना जताई थी।

फ़िलहाल नज़र नहीं आ रही है 

पिछले ही हफ्ते आई स्टॉल ने अर्जेंटीना को 4.7 अरब डॉलर की मदद का फैसला सुनाया था। देश में खाने-पीने की चीजें भी बहुत सारे टुकड़े-टुकड़े हो गए हैं। अर्जेंटीना की पर्चेज पावर दिसंबर में लगभग 10 प्रतिशत कम है। साथ ही देश में किताब की बिक्री 13.7 प्रतिशत कम हो गई है। फरवरी के अंत तक इस स्थिति में सुधार की कोई नजर नहीं आ रही।

ये भी पढ़ें 

लक्षद्वीप: पिछले साल सबसे कम लोग गए थे लक्षद्वीप, पीएम मोदी की यात्रा से बढ़ी उम्मीद 

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *