Breaking
Wed. Apr 17th, 2024

[ad_1]

घने कोहरे के कारण कम दृश्यता के कारण सोमवार तड़के मथुरा के माइल स्टोन 110 राया कट पर दो बसें आपस में टकरा गईं, जिसके परिणामस्वरूप

दुर्घटना
भारत में हर साल सर्दियों के दौरान घने कोहरे और बेहद कम दृश्यता के कारण विशेष रूप से उत्तरी क्षेत्र में बड़ी संख्या में सड़क दुर्घटनाएं होती हैं। (प्रतीकात्मक छवि) (HT_PRINT)

उत्तर प्रदेश के मथुरा में यमुना एक्सप्रेस-वे पर सोमवार तड़के दो बसें टकरा गईं। इससे 40 लोग घायल हो गये. घटना मथुरा के माइल स्टोन 110 राया कट पर हुई. हादसा सुबह करीब 3 बजे हुआ जब धौलपुर से नोएडा जा रही एक बस दूसरी बस से टकरा गई जो इटावा से नोएडा जा रही थी।

बताया जा रहा है कि यह घटना उत्तर भारतीय राज्यों में कोहरे के कारण कम दृश्यता के कारण हुई। उत्तर भारत के कई हिस्से घने कोहरे की चपेट में हैं, जिससे दृश्यता कम हो गई है। अधिकारियों ने बताया कि घायल लोगों में से 31 को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है जबकि नौ अन्य को अन्य अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

ये भी पढ़ें: हाईवे पर अपनी कार चला रहे हैं? पालन ​​करने योग्य पाँच प्रमुख नियम और युक्तियाँ

इसी तरह की एक घटना इससे पहले दिसंबर में उत्तर प्रदेश में दिल्ली-मुरादाबाद राजमार्ग पर हुई थी। जैसे ही दृश्यता लगभग शून्य हो गई, लगभग 10 वाहन एक-दूसरे से दुर्घटनाग्रस्त हो गए। यह घटना राष्ट्रीय राजधानी से लगभग 86 किलोमीटर दूर हापुड के हैफज़पुर कोतवाली इलाके में हुई।

आईएमडी (भारत मौसम विज्ञान विभाग) ने अपने एक्स हैंडल पर साझा किया कि पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तरी राजस्थान और उत्तर प्रदेश में बहुत घने कोहरे की परत फैली हुई है। राजमार्गों पर यात्रियों को बेहद सावधानी से और फॉग लाइट के साथ ही गाड़ी चलाने की जरूरत है।

हर साल सर्दियों में स्थिति लगभग ऐसी ही रहती है। सुरक्षित ड्राइव के लिए ड्राइवरों को ओवरस्पीड नहीं करनी चाहिए और सड़क पर धैर्य रखना चाहिए। इसके अतिरिक्त, ऐसी स्थितियों में चालकों को सामने वाले वाहन से सुरक्षित दूरी बनाए रखनी चाहिए। यह आवश्यकता पड़ने पर पर्याप्त ब्रेकिंग दूरी की अनुमति देगा।

कोहरे की स्थिति में सुरक्षित ड्राइविंग के लिए एक अन्य महत्वपूर्ण अभ्यास लेन के भीतर ड्राइव करना है क्योंकि राजमार्ग पर अचानक बदलाव से अन्य वाहनों के साथ टकराव हो सकता है। ड्राइवरों को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि जिस वाहन को वे चला रहे हैं वह आगे और पीछे दोनों तरफ से दूसरों को दिखाई दे। इसके लिए हैजर्ड लाइटों के साथ-साथ हेडलैंप और फॉग लैंप को भी हर समय चालू रखना चाहिए।

इस बीच, खिड़कियों और शीशों को साफ और स्वच्छ रखना जरूरी है। इससे ड्राइवर को सड़क पर क्या हो रहा है, उस पर नज़र रखने में मदद मिलेगी। इन सभी प्रथाओं का पालन करते हुए, ड्राइवरों को कोहरे की स्थिति में वाहन चलाते समय अतिरिक्त सतर्क रहना चाहिए।

प्रथम प्रकाशन तिथि: 15 जनवरी 2024, 10:35 पूर्वाह्न IST

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *