Breaking
Sat. Feb 24th, 2024


वेतन वृद्धि और पदोन्नति: आईटी सेक्टर में वैश्विक मंदी की मार झेल रहे कर्मचारियों पर भारी संकट मंडरा रहा है। इन्फोसिस समेत कई बड़ी कंपनियों ने इस साल वेतन में बढ़ोतरी और प्रमोशन की संख्या कम कर दी है। बेंगलुरु स्थित इंफोसिस ने इस साल वेतन वृद्धि और प्रमोशन का फैसला काफी देर से लिया। मगर, कर्मचारियों के हाथ में गिरावट आई क्योंकि इस साल उनकी कीमत में 10 प्रतिशत से भी कम की बढ़ोतरी हुई है। इंफोसिस ने भी वेतन वृद्धि के पत्र समय कर्मचारियों से कठिन समय में साथ देने का धन्यवाद दिया है।

नई हैनिंग करने में कोई नहीं

लाइक्स टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका और यूरोप की कई बड़ी आईटी कंपनियों के हेड क्वार्टर कॉलेज में हैं। आईटी सेक्टर में लगभग 60 प्रतिशत कर्मचारियों का खर्च होता है। इस बड़े खर्च को ध्यान में रखते हुए आईटी कंपनी ने इस साल कम वेतन वृद्धि की है। साथ ही प्रचार की संख्या भी घट गई है। हाल ही में कई नामांकित, रैना ने खुलासा किया कि इस साल के आईटी निवेशक नई हैरिंग करने में भी शामिल नहीं दिख रहे हैं।

नए कर्मचारियों का वेतन अच्छा नहीं है

मंदी की यह फिल्म लगभग एक साल की रिलीज है। हालाँकि, कंपनी को उम्मीद है कि अगले छह महीनों में सब्जेक्ट मिल जाएगा। मगर, तब तक स्थिति न रहे, हितैषी सावधानी बरत रही हैं। इस साल नए कर्मचारियों को वेतन वृद्धि नहीं दी गई है।

वेतन वृद्धि में वृद्धि, रोके गए प्रचार

एक आईटी कर्मचारी के अनुसार, हर साल उपभोक्ताओं के वेतन में लगभग 20 प्रतिशत की वृद्धि होती है। यदि किसी को प्रमोशन मिल जाए तो उसकी सैलरी 50 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। इस साल कई प्रमोशन रोके गए हैं. साथ ही प्रमोशन प्रमोशन मिला, उन्हें भी सिर्फ 10 से 20 प्रतिशत ही वेतन वृद्धि दी गई है।

नौकरी नौकरी वाले भी नोकरी में

इस साल सरकारी नौकरियों में लगभग 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। पहले यही पात्र 40 प्रतिशत तक हुआ था. कुछ मामलों में तो 100 से 120 प्रतिशत तक वेतन वृद्धि हुई थी। साल 2023 2007 से 2009 में कुछ हालात बने हुए थे। इन दो पूर्वी आईटी सेक्टर पर बुरा असर पड़ा।

होटल भी खा रही दुकान

एक आईटी कंपनी के शेयरधारक प्रबंधक ने बताया कि ऑटोमेशन और आर्टिफिशियल रियाज (एआई) के दिवालियापन का खतरा है। इससे संबंधित व्यावसायिक व्यवसायिक हैं। कोई नहीं जानता कि यह बुरा दौर कब ख़त्म होगा। कोरोना महामारी के दौरान आईटी कर्मचारियों की मांग बहुत बढ़ गई थी। लोगों को डैमेज कार और बाइक जैसे तोहाफे भी कंपनी की ओर से मिले। मगर, अब यह सब कुछ सपना जैसा है।

ये भी पढ़ें

भारतीय शेयर बाजार में एफपीआई निवेश की बाढ़ से नए रिकॉर्ड की उम्मीद, इस साल के बाद भरोसा बढ़ने की संभावना 1.5 ट्रिलियन रुपये

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *