Breaking
Wed. Apr 17th, 2024

[ad_1]

रियल एस्टेट सेक्टर इन दिनों तेजी से तेजी के दौर से गुजर रहा है। विशेष रूप से सेक्टर में झील के मंदिर पर लगातार तेजी से देखने को मिल रही है, जो बड़े शहरों में लोगों के लिए अपने घर का सपना पूरा कर पाना बड़ा मुश्किल बना दिया है। सिर्फ सितंबर तिमाही के दौरान देश के घरों में घरों के दाम 20 प्रतिशत तक बढ़े हैं। चौधरी ट्रैकर रिपोर्टरिपोर्ट जारी की। रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल जुलाई से सितंबर तक तीन महीने के दौरान घरों में तेजी का क्रम जारी है। मकानों के दाम की खरीदारी की सकारात्मक धारणाएं बढ़ रही हैं। घर की बनी मजबूत बनी हुई है। दूसरी ओर ब्याज रियल्टी की स्थिरता से भी घर की मांग को समर्थन मिल रहा है।

दक्षिण के 2 शहरों में शीर्ष पर

रिपोर्ट के अनुसार, तीसरी तिमाही में देश के आठ बड़े शहर इस दौरान घर के दाम में आधार पर 10 प्रतिशत की तेजी का आकलन किया गया है। इसका मतलब यह हुआ कि पिछले साल जुलाई से सितंबर के दौरान देश के आठ बड़े शहरों में घरों के दाम का जो था, वहीं इस साल जुलाई से सितंबर के दौरान 10 बाथरूम बढ़े हैं। हैदराबाद में सबसे ज्यादा 19 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली है। वहीं 18 प्रतिशत की वृद्धि के साथ दूसरे नंबर पर है। प्रतिशत से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई है। तीन होटलों में सितंबर तिमाही के दौरान मकानों के बांध 12-12 बेडरूम डूबे हुए हैं। इस दौरान घर में 9 फीसदी की बढ़ोतरी हुई, जबकि चेन्नई में मकान मालिकों के आधार पर 7 फीसदी की तेजी दर्ज की गई। मुंबई नगर निगम क्षेत्र में सबसे कम 1 प्रतिशत की वृद्धि का आकलन किया गया है। हैं. सिर्फ- दिल्ली मैडम में ही दूसरी तिमाही की तुलना में तीसरी तिमाही में घर के दाम नहीं बढ़े हैं। तिमाही आधार पर घर के दाम में सबसे ज्यादा 9 फीसदी की तेजी आई है। अप्रैल-जून की तुलना में जुलाई-सितंबर के दौरान घरों के दाम पुणे में 6 प्रतिशत, सिकंदराबाद में 5 प्रतिशत, पुणे और मुंबई नगर निगम क्षेत्र में 2-2 प्रतिशत और चेन्नई और कोलकाता में 1-1 प्रतिशत की तेजी का अनुमान लगाया गया है। .

इलेक्शन का फैंटेसी गेम खेलें, जीतें 10,000 तक के गैजेट्स 🏆
*T&C Apply
https://bit.ly/ekbabplbanhin

ये भी पढ़ें: अब ICICI बैंक ने दी यह भी सुविधा, ऐसे कर सकते हैं क्रेडिट कार्ड से यूपीआई भुगतान

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *